भारतीय वायुसेना दिवस कब,क्यों और कैसे मनाते है

वायुसेना देश की हवाई सीमा की सुरक्षा करती है और युद्ध के समय हवा से युद्ध लड़ती है। 8 अक्टूबर को भारतीय वायुसेना दिवस मनाया जाता है। ऐसा इस लिए, क्योकि 8 अक्टूबर 1932 में भारतीय वायुसेना की स्र्थापना हुई थी। इसी लिए इस दिन को भारतीय वायुसेना दिवस के तौर पर मनाया जाता है। भारत की आजादी से पहले वायुसेना का नाम रॉयल इंडियन एयरफोर्स था। 1950 में रॉयल को हटा दिया गया था।

चौथी सबसे बड़ी वायुसेना

आपको जान कर गर्व होगा की भारतीय वायु सेना दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना है। पहले नम्बर पर अमेरिका,दूसरे पर चीन फिर रूस है। भारतीय वायुसेना के एयरबेस पुरे देश में और हर दिशा में स्थित है। इसमें जवानो की संख्या 1.70 लाख है। भारतीय वायुसेना के पास इस समय 1350 लड़ाकू विमान है।

राजनाथ सिंह ने तेजस से भरी उड़ान, घरेलू लड़ाकू विमान से उड़ान भरने वाले पहले रक्षामंत्री

भारतीय वायुसेना के लड़ाकू

भारतीय वायुसेना के दिवस को स्थापना के जश्न,लोगो को अपना महत्त्व,लोगो में जागरूकता बढ़ाने के लिए किया जाता है। वायुसेना दिवस पर वायुसेना अपनी शक्ति का प्रदर्शन करती है। इस दिन सेना अपने लड़ाकू विमानों का एयर शो करती है। जिसमे मिराज, सुखोई, जैगुआर, मिग-29, मिग-21, तेजस आदि का हवा में प्रदर्शन दिखाया जाता है।

वायुसेना की 5 कमानें

भारतीय वायुसेना के कमांडर इन चीफ राष्ट्रपति होते है। 4 स्टार सेनाध्यक्ष एयर चीफ मार्शल इस सेना का नेतृत्व करते है। भारतीय वायु सेना का मुख्यालय नई दिल्ली में है। इसकी 5 कमानें है। पश्चिमी कमान (नई दिल्ली),केंद्रीय (मध्य) कमान(इलाहाबाद), पूर्वी कमान(शिलांग), कमान दक्षिण-पश्चिमी(जोधपुर),दक्षिणी कमान(तिरुअनंतपुरम) है। वायुसेना दिवस पर आज 2019 को भारतीय वायुसेना को राफेल लड़ाकू विमान मिला है।