आवास व शौचालय के लिए ग्राम प्रधान मांगता है पैसे

  • आवास के लिए प्रधान 20000 हज़ार रूपए और शौचालय के लिए 2000 हज़ार रूपए की करता है मांग
  • गरीबी के चलते वह अपने बच्चो को नहीं पढ़ा पा रहे जिससे उनके बच्चों का भविष्य लगा है दांव पर

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में तहसील निघासन स्थित दरेरी गांव में किसी भी तरह का विकास नहीं हुआ है। पूरा गांव प्रधान की लापरवाही का खामियाज़ा भुगत रहा है। दरेरी गांव में राजपुर के प्रधान राहुल राज ने गांव के लिए कुछ भी नहीं किया है। हाल ये है कि गांव के लोगों को ना आवास मिला है और ना ही शौचालय बनवाये गए हैं जिसके चलते लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। खाना बनाने के लिए भी लोगों के पास जगह नहीं है और बरसात का मौसम भी है। राहुल राज को प्रधान बने हुए 4 साल हो चुके हैं।

प्रधानमंत्री आवास के नाम पर सचिव पर 20,000 घूस मांगने का आरोप

गाँव वालों का कहना है कि जब प्रधान से आवास तथा शौचालय के लिए कहा जाता है तो वह मारने की धमकी देता है और कहता है कि उसका कोई कुछ भी नहीं कर सकता है। प्रधान कहता है कि आवास तभी मिलेगा जब 20000 हज़ार रूपए दोगे और शौचालय के लिए 2000 रूपए मांगता है। गांव के लोगों की शिकायत है कि प्रधान राहुल राज बिना पैसों के कोई भी काम नहीं करता है। गांव के लोगों का मकान टूटा हुआ है लोग बड़ी मुश्किल से ज़िन्दगी गुज़ार रहे हैं। गरीबी के चलते वह अपने बच्चो को नहीं पढ़ा पा रहे हैं जिससे उनके बच्चों का भविष्य दांव पर लगा है। वह किसी प्रकार मेहनत मज़दूरी करके अपनी ज़िन्दगी बसर कर रहे हैं। राहुल राज जैसे प्रधानों का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत मिशन का भी कोई असर नहीं पड़ता है।