कलयुग में त्रेता युग जैसी दिखेगी आज भगवान राम की नगरी अयोध्या

  • भव्य शोभा यात्रा रामकथा पार्क पहुंचेगी। राज्यपाल आनन्दी बेन पटक और सीएम योगी आदित्यनाथ इसे देखेंगे।
  • श्री राम-सीता हेलिकॉप्टर से रामकथा पार्क आएंगे। योगी उनका स्वागत योगी करेंगे। 
  • शाम को अयोध्या में पूर्ण हुई परियोजनाओं का शिलान्यास किया जाएगा। 
  • शाम 7 बजे सरयू के घाट पर 5 लाख 51 हजार दीपों का प्रज्ज्वलन होगा।
  • राम की पौड़ी में प्रोजेक्शन मैपिंग शो द्वारा रामकथा का प्रदर्शन किया जाएगा।

भगवान राम की नगरी अयोध्या दीपोत्सव के लिए आज सजधज कर तैयार हुई है। 14 वर्ष के वनवास से लौटने के बाद जो खुशी अयोध्यावासियो को मिली थी और जैसा माहौल था, ठीक उसी तरह आज अयोध्या में पूरा शहर जगमगा रहा है। एक बार फिर से योगी सरकार में अयोध्या में 14 स्थानों पर दीप जलाए जाएंगे। 4 लाख दीपो से राम की पौड़ी प्रज्ज्वलित होगी और एक बार फिर गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनना तय माना जा रहा है, और बाकी पूरा शहर आज दीपो से जगमगा उठेगा।

दीपोत्सव 23 अक्टूबर से चल रहा है और कल यानी बड़ी दीपावली के दिन शनिवार को कार्यक्रम का अंतिम दिन होगा। साथ ही इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत केंद्र व राज्य के कई मंत्री दीपोत्सव के मुख्य कार्यक्रम में शामिल होंगे। राज्य सरकार ने फिजी देश के उपसभापति और सांसद को भी समारोह में आमंत्रित किया है। इस मौके पर अयोध्या में मुख्यमंत्री योगी 226 करोड़ की विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास भी करेंगे।

आकर्षण का बिंदु रहेगा राम की वापसी का दृश्य 

रावण दहन के बाद भगवान श्री राम जब लौटते है वो दृश्य आज आकर्षक का बिंदु रहेगा। साथ ही दीपोत्सव में लंका विजय के बाद राम की अयोध्या वापसी का सीन दृश्याया जाएगा। सिर्फ यही नहीं, दीपोत्सव में दीपों की लौ में भगवान राम के दर्शन भी कराए जाएंगे। अवध विश्वविद्यालय का दृश्य कला विभाग खास तैयारी कर रहा है। इस बार दीपों को सीधे न लगाकर ग्राफिक्स के जरिए घाटों पर सजाया जाएगा। इन्हीं ग्राफिक्स को देखने पर राम, सीता और हनुमान समेत अयोध्या के दर्शनीय स्थलों की आकृतियां नजर आएगी।

विदेशी कलाकारों द्वारा होगा रामलीला का मंचन 

आज के दिन अयोध्या में 5 देशों के कलाकार रामलीला करेंगे और दीपोत्सव में भारत, नेपाल, श्रीलंका, इंडोनेशिया और फिलीपींस के कलाकार रामलीला का मंचन करेंगे। इसके साथ 22 सांस्कृतिक रथों को भी तैयार किया गया है। दीपोत्सव के प्रभारी आशीष मिश्र के मुताबिक कार्यक्रम की तैयारी हो चुकी है। अयोध्या के 13 बड़े मंदिरों में तीन दिन (24 से 26 अक्टूबर) लगातार 5001 दीये जलाए जाएंगे।