राजस्व विभाग के कर्मचारियों द्वारा प्रदेशव्यापी धरना

चकबन्दी विभाग के राजस्व विभाग में विलय/प्रतिनियुक्ति के विरोध में राजस्व विभाग के कर्मचारियों द्वारा प्रदेशव्यापी धरना प्रदर्शन किया गया। प्रदेश भर के सभी जिलों में जिला मुख्यालय पर राजस्व महासंघ द्वारा धरने का आयोजन किया गया। जिसमे विभाग में खाली पड़े उच्च पदों पर कर्मचारियों के पद्दोन्नति न करने, चकबन्दी विभाग के राजस्व विभाग में विलय व ट्रांसफर को लेकर विरोध जताया गया।

अधिकारियों/कर्मचारियों का कहना है कि रिक्त चल रहे विभाग के पदों पर शासन द्वारा किया जा रहा संविलयन सरासर गलत है। शासन द्वारा चकबंदी विभाग के क्रमिकों का संविलयन करने के बजाये राजस्व विभाग के कर्मचारियों कि पदोन्नति कि जानी चाहिए। अधिकारीयों का कहना है कि राजस्व विभाग में लेखपाल, राजस्व निरीक्षक, नायब तहसीलदार, तहसीलदार व कलेक्ट्रेट के कई पद खली चल रहे है। जिसके चलते कर्मिकों को दो-दो जिम्मेदारियां उठानी पद रहे है। संघ का कहना है कि प्रशासन के इस निर्णय का हर स्तर पर विरोध किया जायेगा।

फतेहपुर जिलाधिकारी ने भारी बारिश के सम्बन्ध में सभी राजस्व कर्मियों को दिए आवश्यक निर्देश

इस धरने में रजिस्टर कानूनगो संघ, राजस्व संग्रह अनुसेवक संघ, तहसीलदार संघ, नायाब तहसीलदार, सहायक भूलेख अधिकारियों के संघ,राजस्व प्रशासनिक अधिकारी संघ, अमीन संघ, कलेक्ट्रेट संघ आदि संघों कि पूरी प्रतिभागी रही। जिन्होंने जिलाधिकारी कार्यालयों पर धरना दिया।

महासंघ के प्रदेश संयोजक निखिल शुक्ल का कहना है कि पूर्व में भी चकबंदी के विलय की प्रक्रिया प्रशासन द्वारा शुरू की गई थी, जिसे राजस्व परिषद व शासन द्वारा प्रति-नियुक्ति के बाद कार्मिको की सीनियरिटी एवं प्रमोशन पर ठोस जवाब न दे पाने के कारण बंद कर दिया गया था। जिसे शासन द्वारा  फिर से शुरू किया गया है। वही राज्य कर्मचारी महासंघ के महामंत्री शिवबरन सिंह ने कहा प्रदेश भर के विभिन्न जिलों में राजस्व विभाग के पदोन्नति कोटे के 557 पद रिक्त चल रहे हैं। इन पदों पर पदोन्नति करने के बजाय चकबंदी से प्रति -नियुक्ति व स्थानांतरण द्वारा नायब तहसीलदार को पदों पर भर्ती किये जाने के खिलाफ महासंघ अपना विरोध जारी रखेगा।