गोरखपुर में कैदियों के बवाल बाद जागा जेल प्रशासन

  • खाने की गुणवत्ता को लेकर आया है शिकायती पत्र, जांच कर की जाएगी आवश्यक कार्यवाही-आनंद कुमार पुलिस महानिदेशक जेल

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गढ़ यानी गोरखपुर में कैदियों का बवाल बढ़ कर राजधानी पहुच गया है। गोरखपुर जिला जेल में आज सुबह कैदियों ने जमकर बवाल किया, और उसके बाद एक कैदी की पिटाई करने का आरोप लगाते हुए कैदियों ने जेल में जमकर हंगामा किया।सूत्रों के मुताबिक डिप्टी जेलर समेत 4 सिपाहियों की बुरी तरह से पिटाई की गई। घटना की सूचना मिलते ही डीएम, एसएसपी फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए हैं। हालात नियंत्रण से बाहर बताए जा रहे हैं, खबर ये भी है कि जेल के अंदर ईंट पत्थर भी चल रहे हैं। हंगामे के पीछे कैदियों ने जेल में रोटी-दाल की समस्या भी बताई है। वहीं कैदियों ने जिला प्रशासन को मांग पत्र भी सौंपा है।

अयोध्या मंडल कारागार की अनोखी मिसाल, मुस्लिम कैदियों ने रखा व्रत

एडीएम रजनीश श्रीवास्तव ने बताया कि जेल बंदियों की समस्या दूर करने का आश्वासन दिया गया है। वहीं पुलिस द्वारा कैदियों की पिटाई की बात का एडीएम सिटी रजनीश श्रीवास्तव ने खंडन किया है। कैदियों के हमले से कोई भी हताहत नहीं हुआ है। हालांकि जेल में बंद कैदी लामबंद होकर नारेबाजी भी कर रहे हैं।मौके पर भारी पुलिस बल तैनात कर जेल की सुरक्षा बढ़ा दी गयी है। लखनऊ में बवाल मामले पर पुलिस महानिदेशक जेल आनंद कुमार ने कहा है कि गोरखपुर जेल में स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है। उन्होंने कहा कि कैदियों ने मांग पत्र लिखकर भेजा था और कैदियों की तरफ से जेल प्रशासन और पुलिस को लेकर शिकायतें थी कि वहां भोजन की गुणवत्ता में लगतार कमी आ रही है। साथ इस मामले पर आनन्द कुमार ने कहा, जो शिकायत मिली है उसकी जांच कराकर उसपर अगर शिकायते सही पाई गई तो कार्यवाही की जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा कि यूपी की जेलों में देश के 25 प्रतिशत बंदी है। यूपी की जेलों में क्षमता से ज्यादा बंदी हैं। जेलों की व्यवस्था में सुधार लाने की कवायद लगातार की जा रही है।