बकायेदारों से वसूला गया जुर्माना, हटाए गए अतिक्रमण

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में 1 अक्टूबर को नगर आयुक्त के निर्देश पर बड़े बकायेदारों के खिलाफ कार्यवाही की गई साथ ही अतिक्रमण तथा स्वच्छता को लेकर विभिन्न जोनों में चलाये गए अभियान को लेकर कार्यवाही की गई। ‘स्वच्छता ही सेवा’ अभियान के अंतर्गत स्वच्छता तथा प्रतिबंधित प्लास्टिक के इस्तेमाल के खिलाफ जनजागरूकता के लिए पैदल मार्च किया गया और विभिन्न ज़ोन के अंतर्गत विद्यालयों में जागरूकता, सफाई अभियान इत्यादि कार्यक्रम किये गए।

ज़ोन 1 : जोनल अधिकारी राजेश सिंह के नेतृत्व में लखनऊ के हज़रतगंज में नावेल्टी चौराहे से पार्क रोड तक अस्थाई अतिक्रमण हटाए गए।

ज़ोन 2 : स्कूली बच्चों द्वारा प्रभात फेरी निकाली गई।

ज़ोन 3 : जोनल अधिकारी के नेतृत्व में फैज़ुल्लाह गंज में सफाई अभियान चलाया गया साथ ही कपूरथला के कार्यालय पर नुक्कड़ नाटक का आयोजन हुआ जिसमे लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया।

ज़ोन 4 : गोमती नगर में स्थित आईआईएलएम अकेडमी के विद्यार्थियों को स्वच्छता शपथ दिलाई गई।

ज़ोन 6 : जोनल अधिकारी अम्बी बिष्ट के नेतृत्व में वार्ड गढ़ीपीर खां में गृहकर के बड़े बकाएदारों के खिलाफ अभियान चलाया गया। इस अभियान में रामनगर के माकन संख्या 433/119N में रहने वाले राधेलाल यादव पर 7,38,398 रूपए बकाया था जिसमे से 1,50,000 वसूले गए। भवन स्वामी ने बाकी की रकम 1 महीने में भुगतान करने का आश्वासन दिया है। घर में प्लास्टिक के गिलास पाए जाने पर 1000 रूपए जुर्माना भी वसूला गया।

ध्वनि प्रदूषण किया तो देना होगा 10 लाख तक का जुर्माना

आलम नगर वार्ड में 28 सितम्बर को सीज़ किये गए भवन के स्वामी ने अपना पूरा गृहकर 1,16,000 का भुगतान कर दिया जिसके बाद सील खोल दी गई। इस कार्यवाही में जोनल अधिकारी के साथ कर अधीक्षक चंद्र शेखर यादव, राजेंद्र पाल, राजस्व निरीक्षक, प्रवर्तन दल और स्टाफ के अन्य लोग मौजूद रहे।

ज़ोन 7 : इंदिरा नगर के सेक्टर 9 में स्थित दयानन्द इंटर कालेज के विद्यार्थियों को स्वच्छता शपथ दिलाई गई इसके अलावा इलाके में आंबेडकर चौराहे से तकरोही बाजार चौराहे तक स्वच्छता रैली निकाली गई। इस रैली में जोनल अधिकारी के साथ कार्यालय के अधिकारी तथा कर्मचारी मौजूद थे। रैली में इंदिरा नगर आवासीय महासमिति के पदाधिकारियों ने भी भाग लिया। अभियान में कृष्णा जनरल स्टोर, ग्वारी चौराहा, गोमती नगर से प्रतिबंधित प्लास्टिक पाए जाने पर 10,000  रूपए का जुर्माना वसूला गया।