कन्या सुमंगला योजना: कन्याओं को मिलेंगे 15 हजार रूपए

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने धनतेरस के शुभ अवसर पर कन्या सुमंगला योजना की शुरुआत की। इस योजना से उत्तर प्रदेश के हर जिले की लगभग 500 कन्याओं को लाभ मिल सकेगा। कन्या सुमंगला योजना में 6 चरणों में कुल 15 हजार रूपए एक कन्या पर प्रदेश सरकार खर्च करेगी। इस योजना के लिए योगी सरकार 1200 करोड़ रूपए प्रति वर्ष उत्तर प्रदेश की कन्याओं के लिए देगी। सीएम योगी ने इस योजना के तहत कन्याओं को चेक भी आज प्रदान किये।

6 चरणों में मिलेगा लाभ

कन्या सुमंगला योजना के तहत उत्तर प्रदेश की कन्याओं के जन्म लेने से उनके स्नातक होने तक सरकार 15 हजार रूपए की कुल राशि प्रदान करेगी। जब कन्या का जन्म होगा तो 2000 रूपए और 1 साल तक टीकाकरण 1000 रूपए व जब कन्या कक्षा 1 में प्रवेश लेगी तो 2000 रूपए तथा कक्षा 6 में जब कन्या प्रवेश लेगी तो पुनः 2000 रूपए सरकार देगी। इसके बाद कन्या 12th पास कर के आगे की पढ़ाई करने के लिए जाएगी तो उसे 5000 रूपए प्रदान किये जायेंगे। इस तरह योगी सरकार 6 चरणों में कुल 15000 रूपए ‘कन्या सुमंगला’ योजना के तहत कन्याओं को प्रदान करेगी। बता दें इस योजना का लाभ एक परिवार की दो कन्या ही उठा सकती है। इस योजना का लाभ उठाने के लिए लोगों को ऑनलाइन आवेदन करना होगा। कन्या सुमंगला योजना का लाभ उनको मिलेगा जो यूपी का निवासी हो,परिवार की वार्षिक आय 3 लाख रूपए से ज्यादा न हो।

केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कन्याओं को मिलेगा लाभ

केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने योगी सरकार की तारीफ करते हुए कहा की धनतेरस का त्यौहार यूपी अनोखे ढंग से मना रहा है। कन्या सुमंगला योजना के रूप में यूपी की बेटियों को सम्मान मिल रहा है। इस योजना के शुरू होने से अब कन्या के जन्म पर उत्सव मनाया जायेगा। यूपी की प्रगति में यूपी की बेटियां अहम भूमिका निभाएंगी। केंद्र व राज्य सरकार द्वारा कई ऐसी योजना लांच की गयी है। जिससे देश की बेटियों को लाभ हुआ है। इस कार्यक्रम के लिए सीएम योगी का धन्यवाद।

कैबनेट मंत्री व डिप्टी सीएम ने योजना को बताया लाभ दायक

डिप्टी सीएम ने कहा की कन्या सुमंगला योजना से बेटियों के जन्म से ग्रेजुएशन तक की शिक्षा को सुदृढ़ बनाया जा सकेगा। मै सीएम योगी का धन्यवाद् करता हूँ,विभिन्न योजनाओं को संचालित करने के लिए। वहीं कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा की महिला शशक्तिकरण होना चाहिए और महिलाओं को बराबरी का दर्जा मिलना चाहिए। महात्मा गाँधी जी ने कहा था की नारी शिक्षित होने से दो परिवार शिक्षित होते है। स्वास्थ्य बालिका स्वास्थ्य पीढ़ियों को दिशा दे सकती है। यूपी सरकार महिलाओं की प्रगति के लिए तत्पर है।