CAB विरोध प्रदर्शन के चलते मऊ में भी बंद हुई इंटरनेट सेवा

google

देश में लगातार नागरिकता संशोधन कानून पर हो रहे बवाल के चलते दक्षिणी दिल्ली में हुए विरोध प्रदर्शन और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में हुई घटना की वजह से पश्चिमी यूपी में अलर्ट जारी कर दिया गया है। सोमवार को पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों की शहर पर पैनी नजर रही। शहर और देहात में पुलिस अधिकारियों द्वारा पैदल मार्च भी किया गया इसके अलावा किसी भी स्थिति से निपटने के लिए आरएएफ को कॉल पर रखा गया है।

इसके साथ ही यूपी में कई शहरों में इंटरनेट सेवाएं बंद रखी गई। जिसमे अलीगढ़, सहारनपुर, मेरठ में इंटरनेट सेवा बंद रही। इसके साथ ही आज सुबह मऊ में भी इंटरनेट बंद कराया गया। इतना सब कुछ होने का बावजूद भी सोशल मीडिया पर अफवाहों का दौर लगातार जारी है। इसके चलते यूपी में इंटेलिजेंस विभाग भी फेल हो गया। क्योकि इंटेलिजेंस विभाग के पास इनपुट नहीं था। जिसके चलते कई जिलों में DM-SP की क्षमता पर सवाल उठे।

विधानमंडल के शीतकालीन सत्र में सरकार ने प्रदेश को दी जमकर सौगातें

लोगो का कहना है की प्रशासनिक अक्षमता के चलते ही हालात बिगड़े। कुछ अक्षम, अयोग्य अफसरों ने मुश्किल बढ़ाई है। खबर आ रही है की मऊ के कई इलाकों में अभी तनाव फैला है। क्योकि मऊ में कल 5 घंटे तक उपद्रव हुआ था। जिसको देखते हुए मऊ में इंटरनेट भी बंद करा दिया गया है। अभी लोगों को घर से निकलने से रोक पुलिस रही है। क्योकि कल हुए प्रदर्शन के दौरान मऊ में 24 से ज्यादा वाहन जलाए गए थे।

CAB को लेकर प्रदर्शन की आग अभी भी ख़त्म नहीं हुई है। ये हिंसा की आग लगातार फैलती जा रही है। कल मऊ में प्रदर्शन कर रहे दंगाइयों को पुलिस ने हल्के मे लिया था। और तो और मऊ में डीएम-एसपी ने तैयारी नहीं की थी। जिसके चलते नोडल अफसरों का भी रवैया लापरवाही वाला रहा। यदि इतनी लापरवाही न हुई होती तो शायद मऊ में कल इतना भयानक प्रदर्शन न हुआ होता।