गोमती नदी में नहीं किया जाएगा मूर्ति विसर्जन : एसडीएम

प्रतीकात्मक तस्वीर
  • मूर्ति विसर्जन के दौरान डीजे, बाजा तथा ऐसा यंत्र नहीं बजेगा जिससे पैदा हो जाए ध्वनि प्रदूषण 
  • नदी के पास एक अस्थाई तालाब बनवाकर उसमे ही करवाया जाएगा मूर्तियों का विसर्जन

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में सुल्तानपुर-बल्दीराय की एसडीएम प्रिया सिंह ने भरी पुलिस बल के साथ पूरे तहसील क्षेत्र में दौरा किया। एसडीएम ने बताया कि मूर्ति विसर्जन के दौरान डीजे, बाजा तथा कोई भी अन्य ऐसा यंत्र नहीं बजाया जाएगा जिससे ध्वनि प्रदुषण की स्थिति पैदा हो जाए। कोई भी व्यक्ति शस्त्र के साथ अथवा नशे की हालत में मूर्ति विसर्जन में नहीं जाएगा।

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की पहल, मूर्ति विसर्जन के लिए बनाये दो तालाब

एसडीएम प्रिया सिंह ने कहा कि इस बार मूर्ति विसर्जन गोमती नदी में नहीं किया जाएगा क्युकि नदी में मूर्ति विसर्जन करने से प्रदूषण बढ़ता है। नदी के पास एक अस्थाई तालाब बनवाकर उसमे ही मूर्तियों का विसर्जन करवाया जाएगा। उन्होंने दुर्गा पूजा के प्रबंधकों को निर्देश दिया कि अराजक तत्वों के द्वारा किसी भी तरह की कोई गड़बड़ी हुई तो सख्त कार्यवाही की जाएगी।

एसडीएम ने बल्दीराय, पारा बाजार, वल्लीपुर, बघौना बाजार, देहली बाजार, बहुरावा व रसूलपुर सहित थाना क्षेत्र के सभी चौराहों पर लाउडस्पीकर के साथ प्रचार किया। इस प्रचार के दौरान तहसील बल्दीराय के केंद्रीय दुर्गा पूजा समिति अध्यक्ष महेश जायसवाल, नायब तहसीलदार एएन पाल, बल्दीराय के थानाध्यक्ष आकाश सिंह, बलीपुर चौकी के ऋषिकेश राय, देहली चौकी के इंचार्ज खुर्शीद अहमद व महेंद्र सरोज समेत बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी मौजूद रहे।