पुलिस स्मृति दिवस पर सीएम योगी ने वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की

● पुलिस स्मृति दिवस पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने श्रद्धांजलि अर्पित की
● मुख्यमंत्री छोटे छोटे बच्चो को खिलाते हुए नजर आये
● महिलाओं के शिकायतों के निवारण हेतु बनाया जायेगा ऐप

उत्तर प्रदेश के पुलिस स्मृति दिवस पर पुलिस लाइन मुख्यमंत्री योगि आदित्यनाथ पहुँचे। उन्होंने वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। कर्तव्य पालन के दौरान अपनी प्राणों की आहूति देने वाले बहादुर पुलिस कर्मियों की स्मृति में हर साल आयोजित होने वाले ‘स्मृति दिवस’ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके साथ ही उन्होंने शहीदों के परिजनों को सम्मानित किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री रैतिक परेड का भी निरीक्षण भी होगा। इस कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री छोटे छोटे बच्चो की खिलाते हुए नजर आये।

महिलाओं की शिकायत के निवारण के लिए बनाया जायेगा ऐप

इस कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा की महिलाओ की शिकायत के निस्तारण के लिए एक नया ऐप शुरू किया जायेगा। जिससे महिलाओं के साथ हो रही प्रत्येक घटना की रिपोर्ट दर्ज की जा रही है। सीएम योगी ने वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा की मै हमारे देश के सभी शहीदों को नमन करता हूं। उन्होंने कहा की प्रदेश सरकार शहीदों के परिवार कल्याण के लिए काम करती है। इस कार्यक्रम के दौरान 130 पुलिस अधिकारियों को सम्मानित किया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से प्रदेश के विभिन्न जिलों को अनुदान दिया जायेगा।

डीजीपी ओपी सिंह का बयान

इस कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ डीजीपी ओपी सिंह भी मौजूद रहे। उन्होंने कहा की कमलेश तिवारी हत्याकांड पर काफी बारीकी से पुलिस काम कर रही। पुलिस सभी पहलुओं को देखकर आगे का कार्य कर रही है। उन्होंने कहा की पुलिस अपना कार्य कर रही है। जल्द ही कमलेश यादव के गुनाहगारो को पकड़ कर उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी।

जानिए क्यों मनाया जाता है स्मृति दिवस

21 अक्तूबर 1959 को लेह-लद्दाख में चीनी सैनिकों के छल में फंसकर शहीद होने वाले पुलिसकर्मियों की याद में मनाया जाने वाले स्मृति दिवस पर देशभर में वीरगति को प्राप्त करने वाले पुलिसकर्मियों को याद किया जाएगा। इस साल देश भर में कुल 292 पुलिसजन शहीद हुए हैं। इनमें उप्र के भी पांच पुलिसकर्मी शामिल हैं। इनमें निरीक्षक सुबोध कुमार सिंह (बुलंदशहर), मुख्य आरक्षी सुरेश प्रताप सिंह (गाजीपुर), आरक्षी हर्ष चौधरी (अमरोहा), आरक्षी हरेन्द्र सिंह व बृजपाल सिंह (संभल) शामिल हैं।