ऐशबाग की ऐतिहासिक रामलीला में पहुंचे मुख्यमंत्री योगी

सूबे की राजधानी लखनऊ की ऐतिहासिक ऐशबाग रामलीला के मंच पर बीती शाम एक बार फिर सूबे के मुखिया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राम लीला देखने पहुचे। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने राम-लक्ष्मण की आरती उतारी और मंच पर किनारे बैठकर रामलीला भी देखी। कलाकारों के साथ उन्होंने ग्रुप फोटो खिंचाया और उन्हें सम्मानित भी किया। यहां भारी संख्या में मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने राम के बिना भारतीय संस्कृति को अधूरी ठहराते हुए कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम राम हमारी संस्कृति के प्रेरणास्रोत हैं।

इस बार द्वारका की रामलीला में राष्ट्रपति कोविंद व पीएम मोदी होंगे शामिल

मुख्यमंत्री ने कहा रामराज्य में जातिवाद संप्रदायवाद नहीं

मुख्यमंत्री ने कहा कि भाई-भाई के लिए राम-लक्ष्मण, मां-पुत्र के लिए कौशल्या-राम, पिता-पुत्र के लिए दशरथ-राम, पति-पत्नी के लिए सीता-राम, गुरु-शिष्य के लिए वशिष्ठ-राम और आदर्श राज्य व्यवस्था के लिए आज भी रामराज्य का उदाहरण दिया जाता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि रामराज्य में जातिवाद, मजहब और संप्रदायवाद नहीं, बल्कि ऐसे राज्य अवधारणा है जहां दुख, भेदभाव, अराजकता, अव्यवस्था, बेईमानी और भ्रष्टाचार की जगह नहीं है।

 

उन्होंने कहा कि बच्चे जहां छोटे से ही राम को समझने लगते हैं, वहीं कोरिया, इंडोनेशिया और थाईलैंड जैसे देशों ने भी खुद को राम से जोड़ा है। ऐशबाग रामलीला में उन्होंने रामायण पर शोध की जरूरत बताई और सबको शारदीय नवरात्र व विजयदशमी की शुभकामनाएं दीं। मुख्यमंत्री के साथ उप मुख्यमंत्री डॉ.दिनेश शर्मा व नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन भी थे