पीएम की भतीजी का पर्स छीनने वाले आरोपियों की दिल्ली पुलिस ने की पहचान

हमारे भारत देश की राजधानी दिल्ली में कल शनिवार को पीएम मोदी की भतीजी साथ हुई पर्स झपटमारी के मामले में पुलिस को सफलता प्राप्त हुई है। इस मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। दिल्ली पुलिस ने बताया कि झपटमारी की इस घटना में नोनू नाम के एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। बताया जा रहा है की उसी के पास से पीएम मोदी की भतीजी ने आपने जो कुछ भी अपने जरूरी दस्तावेज और सामान बताया था। उनका सारा सामान भी उसी के पास से बरामद किया गया है।

दोनों अपराधी दिल्ली के ही रहने वाले है

बता दें की “दिल्ली पुलिस भले ही इस मुद्दे पर खुलकर कुछ नहीं बोल रही है। मगर संदिग्धों को उसने हिरासत में ले रखा है। आरोपियों के पास से वह सामान भी मिल गया है, जो उन्होंने युवती से गुजरात समाज भवन के सामने से शनिवार सुबह झपटा था। पुलिस के मुताबिक सीसीटीवी कैमरे की तस्वीरों से आरोपियों की पहचान कर ली गई थी। इसके बाद से ही पुलिस इनके ठिकानों पर लगातार नजर रख रही थी, लेकिन इन आरोपियों को जैसे ही पुलिस के आने की खबर मिली तो वे अपने ठिकानों से भाग गए। लेकिन इतनी कड़ी मेहनत के बाद पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक जल्द ही दूसरा आरोपि भी पुलिस हाथ लग जायेगा।

दिल्ली में दिनदहाड़े प्रधानमंत्री की भतीजी का पर्स हुआ चोरी

इस घटना को टाल दिया था पुलिस ने

बता दे की इस तरह की घटना दिल्ली में कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े करती है। दमयंती ने थाने में केस दर्ज होते वक़्त नहीं बताया था कि वो प्रधानमंत्री की भतीजी हैं। लेकिन जब पुलिस को मीडिया के जरिये पता चला तो पुलिस सरगर्मी से आरोपियों की तलाश में जुट गई है।लेकिन इस घटना के बाद से ही ह उत्तरी दिल्ली जिला पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) मोनिका भारद्वाज का टाल-मटोल वाला रवैया अपनाए हुए थीं। प्रधानमंत्री की भतीजी से जुड़ी घटना होने के नाते वह कुछ बोलकर अपने गले में आफत नहीं डालना चाह रही थीं। बता दें की पुलिस प्रवक्ता ने पूरे घटनाक्रम का ब्योरा बाद में जरूर दिया। लेकिन उससे पहले ही खुद को प्रधानमंत्री मोदी को दूर का रिश्तेदार बताने वाली पीड़िता दमयंती मोदी पूरी कहानी शनिवार सुबह मीडिया के सामने बयान कर चुकी थीं।

जनकारी के मुताबिक उत्तरी जिला पुलिस की ओर से शनिवार देर रात तक कोई अपराधियों से जुड़ा कोई सबूत नहीं मिला था। लेकिन सूत्र बताते हैं कि झपटमारों में से एक नाबालिग है, लिहाजा पुलिस उसकी पहचान छिपाने को लेकर सतर्क है।हालाँकि प्रधानमंत्री की भतीजी के साथ वारदात का पता चलते ही पूरी दिल्ली पुलिस मामले के खुलासे में जुट गई थी।
.