“सेक्शन 375” और “ड्रीम गर्ल” के साथ हुई रिलीज सलमा को मिल रहे अच्छे रिव्यूज

आज एक तरफ जहाँ सेक्शन 375 हमें भारतीय संविधान और कानून के तरीकों के बारे में बताएगी, वहीं दूसरी ओर ड्रीमगर्ल्स जैसी कॉमेडी फिल्म हमे मनोरंजित करेगी ।

सेक्शन 375

बॉलीवुड मे अब कॉमेडी, रोमांस और भी बहुत सारी बायोपिक्स के साथ-साथ अब कानूनी मुद्दों पर भी फिल्मे बनना शुरू हो गयी है। हाल ही में आर्टिकल 15 जैसी फिल्मे जो जाति भेदभाव के बारे में चर्चा करती है। जबकि मनोज बाजपेई की फिल्म अलीगढ़ भारतीय कानून के सेक्शन 377 के बारे में चर्चा करती है। जो कि समलैंगिकता जैसे मामलों के लिए बनाया गया है। ऐसे ही सेक्शन 375 भी हमारे भारतीय कानून में हो रही दिक्कतों के बारे में बताती है।

फिल्म की कहानी

इसमें एक मूवी डायरेक्टर की कहानी को बताया है जिस पर उसकी फिल्म में काम करने वाले एक कॉस्टयूम डिजाइनर है जो उन पर रेप का आरोप लगाती है। डायरेक्ट को इस आरोप के तहत निचली अदालत में सजा होती हैं और जेल भेज दिया जाता है जिसके बाद ये केस हाई कोर्ट में जाता है। जहाँ यह मामला मीडिया और पब्लिक के सामने खुलकर आता है। इसमें भ्रष्टाचार और ग्वार कानूनी जांच में हो रही ढिलाई को रियल टच देने की कोशिश की गई है। इस फिल्म के डायरेक्टर अजय बहल ने रेप जैसे मामले को बेहद सधे हुए तरीके से उठाने की कोशिश की है। इस फिल्म में अक्षय खन्ना डिफेंस लॉयर और रिचा चड्डा पब्लिक प्रोसिक्यूटर का रोल निभा रही है।

65 की हुईं मस्तानी आंखों वाली रेखा, जाने कैसा रहा उनका फ़िल्मी सफर

ड्रीम गर्ल

फिल्म में आयुष्मान खुराना ने अपने दर्शको के लिये एक अनोखी कहानी प्रकट करते हुए दर्शको को मनोरंजित करते है। फिल्म में आयुष्मान अपनी टैलेंट को दिखाते हुए अपने हर जरुरतो को पूरा करने की कोशिश की है।

फिल्म की कहानी

फिल्म में आयुष्मान एक साधारण परिवार से होते है,और वो अपनी हर जरूरतों को पूरा करने के लिए अपने टैलेंट से उन जरूरतों को पूरा करने की कोशिश करते है। फिल्म में आयुष्मान खुराना एक लड़के कर्मवीर सिंह का रोल निभा रहे है जो लड़कियों की आवाज में बोल सकता है और गाना गा सकता है। अपने इसी टैलेंट की वजह से वह रामलीला में किरदार निभाता है। उसके बाद वह एक कॉल सेंटर में काम करता जहाँ वह पूजा बनकर सबसे बाते करता है और लोग उसके आशिक बनते चले जाते है। और फिर उनकी मुलाकात नुसरत से होती है जिससे वो पहली नजर में ही प्यार कर बैठता है।


ड्रीम गर्ल को राज शांडिल्य ने डायरेक्ट किया है। राज शांडिल्य ने चीजों को आसान बनाने की कशिश की है। अपना पूरा फोकस कॉमेडी पर रखा है। ‘ड्रीम गर्ल’ में तीन गाने आते हैं, और वह हंसते-खेलते निकल जाते हैं। फिल्म में यूथ कनेक्ट भी है, और सेल्फी कल्चर की वजह से बढ़ते अकेलेपन को भी निशाना बनाया गया है।

‘ड्रीम गर्ल (Dream Girl)’ का बजट लगभग 30 करोड़ रुपये बताया जा रहा है। आयुष्मान खुराना ‘बरेली की बर्फी (2017)’, ‘शुभ मंगल सावधान (2017)’, ‘अंधाधुन (2018)’, ‘बधाई हो (2018)’ और ‘आर्टिकल 15 (2019)’ के बाद एक बार फिर ‘ड्रीम गर्ल (Dream Girl)’ से लोगो के दिलो में उतरने में कामयाब रहे।