कानून व्यवस्था और विकास कार्यों को लेकर हुई समीक्षा बैठक

  • ग्रामीण क्षेत्रों की शिकायतों पर मेरे तथा जिलाधिकारी द्वारा समस्याओं का किया जा रहा निस्तारण
  • कोई भी व्यक्ति कितना भी प्रभावशाली हो यदि जनता से अन्याय करता है तो उसे मिलनी चाहिए सजा
  • सौभाग्य योजना के तहत 31 दिसम्बर 2019 तक निःशुल्क बिजली कनेक्शन देने का कराया जाये प्रचार
  • अन्य जनपदो की तुलना में इस जनपद में डकैती अपराध के प्रकरण हुए है कम

उत्तर प्रदेश के जनपद के श्रम, नियोजन एवं समन्वय विभाग के प्रभारी मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा कलेक्ट्रेट सभागार में समीक्षा बैठक हुई। यह बैठक कानून व्यवस्था तथा विकास कार्यों को लेकर की गयी। बैठक में समीक्षा के दौरान सर्वप्रथम जनपद के प्रभारी मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य को जिलाधिकारी दीपक मीणा द्वारा पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया गया। पुलिस अधीक्षक विजय ढुल द्वारा स्वास्थ्य मंत्री  जयप्रताप सिंह को पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया गया। मुख्य विकास अधिकारी हर्षिता माथुर द्वारा मंत्री बेसिक शिक्षा डॉ. सतीश द्विवेदी को पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया गया। इस कार्यक्रम के बाद बैठक प्रारम्भ हुई।

बैठक के प्रारम्भ में जनपद की कानून व्यवस्था के सम्बन्ध में पुलिस अधीक्षक विजय ढुल द्वारा जानकारी देते हुए बताया कि अन्य जनपदो की तुलना में इस जनपद में डकैती व अपराध के प्रकरण कम हुए है। पुलिस अधीक्षक ने मंत्री, सांसद तथा विधायकगणों को जानकारी देते हुए बताया कि जनपद में ग्रामीण क्षेत्रों की शिकायतों पर मेरे तथा जिलाधिकारी द्वारा संयुक्त रूप से गांवों में पहुंचकर समस्याओं का निस्तारण किया जा रहा है। पीड़ित परिवारों को संयुक्त टीम बनाकर उचित न्याय दिलाया जा रहा है।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने पुलिस अधीक्षक विजय ढुल को निर्देश दिया कि शिकायतों को संज्ञान में लेकर उस पर कार्यवाही की जाये एवं उसमें पूरी पारदर्शिता राखी जाए। दशहरा और दीपावली के त्यौहारों में संदिग्ध व्यक्तियों को चिन्हित करके उसके विरुद्ध कार्यवाही किया जाये। जनपद में प्राथमिक स्तर पर अपराधों पर अंकुश लगाया जाये। साथ ही उन्होंने जिलाधिकारी को निर्देश दिया कि सभी प्रतिनिधियों को समय समय पर अपने क्षेत्रों की समस्याओं की जानकारी देने पर उसको संज्ञान में लेकर त्वरित निस्तारण की कार्यवाही सुनिश्चित की जाये, और जनप्रतिनिधियों के पत्रों का संज्ञान लिया जाये एवं उसके विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित किया जाये। कोई भी व्यक्ति कितना भी प्रभावशाली हो यदि उसके द्वारा जनता के प्रति अन्याय किया जाता है तो उसे अवश्य ही सजा मिलनी चाहिए।

अपर मुख्य सचिव गृह ने की वाराणसी में कानून व्यवस्था की समीक्षा।

प्रभारी मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा स्वास्थ्य, शिक्षा, सामूहिक विवाह योजना, पेंशन, आवास, मनरेगा, सड़क आदि की समीक्षा किया गया। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, परिवार कल्याण एवं शिशु कल्याण विभाग के मंत्री जय प्रताप सिंह द्वारा मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिया कि स्वास्थ्य से जुड़ी शिकायते अधिक प्राप्त हो रही हैं जिसको गम्भीरता से लेते हुये शिकायतों का त्वरित निस्तारण करायें। पीएचसी खुनियांव में तैनात डॉ. खान का स्थानान्तरण होने के बाद भी अभी कार्य कर रहें हैं उनके स्थान पर तैनात किये गये डॉक्टर को निर्देशित करें कि उक्त स्थान पर जाकर कार्यभार ग्रहण करे, इसके अलावा बर्डपुर सीएचसी में कार्यरत डॉ. खान स्थानीय हैं, ठीक से चिकित्सा कार्य में रूचि नहीं ले रहे हैं प्रायः इनकी शिकायते प्राप्त हो रही हैं। इस सम्बन्ध में बेसिक शिक्षा मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) एवं जिलाध्यक्ष लालजी त्रिपाठी द्वारा संयुक्त रूप से मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिया गया कि इनका स्थानान्तरण किसी अन्य पीएचसी/सीएचसी पर कर दिया जाय तथा इनके स्थान पर किसी और चिकित्सक की तैनाती कर दी जाये। अस्पतालों में डॉक्टरों की उपस्थिति समय से सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया।

बेसिक शिक्षा विभाग (स्वतंत्र प्रभार) के मंत्री डॉ. सतीश द्विवेदी एवं सांसद डुमरियागंज जगदम्बिका पाल द्वारा जनपद में बिजली की समस्या को बताया गया। शोहरतगढ़/बढ़नी एवं बर्डपुर तथा सिद्धार्थ विश्वविद्यालय कपिलवस्तु में लगभग एक सप्ताह से बिजली नहीं है। जिसपर जिलाधिकारी ने अधिशासी अभियन्ता विद्युत को निर्देश दिया कि उक्त जगहों पर बिजली की आपूर्ति कराना सुनिश्चित करें एवं इसकी सूचना आज ही हमें उपलब्ध करायें। सांसद द्वारा सौभाग्य योजना के अन्तर्गत 31 दिसम्बर 2019 तक निःशुल्क बिजली कनेक्शन देने का प्रचार प्रसार कराया जाये।

जनपद के प्रभारी मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिया कि जन शिकायतों के निस्तारण, तहसील समाधान दिवस में प्राप्त लम्बित प्रकरणों के निस्तारण, आई.जी.आर.एस. पर प्राप्त शिकायतों के निस्तारण की कार्यवाही त्वरित गति से किया जाए। जो भी विकास कार्यो से सम्बन्धित अधिशासी अभियन्ता/प्रोजेक्ट मैनेजर बैठक में उपस्थित है सभी अधिकारी यह सुनिश्चित कर ले कि विकास कार्यो को गुणवत्तापूर्ण एवं समयबद्ध तरीके से कराया जाए। इस समीक्षा बैठक में अपर पुलिस अधीक्षक मायाराम वर्मा, परियोजना निदेशक डीआडीए संत कुमार, जिला विकास अधिकारी राजेन्द्र प्रसाद, समस्त निर्माण एजेंसी के बेसिक शिक्षा अधिकारी राम सिंह तथा अन्य जनपद स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।