पाकिस्तान: chandrayaan-2 पर की टिप्पणी तो पाक मंत्री का सोशल मीडिया पर उड़ने लगा मजाक

पाकिस्तान: chandrayaan-2 पर की टिप्पणि तो पाक मंत्री का सोशल मीडिया पर उड़ने लगा मजाक
लैंडर को चंद्रमा की सतह पर लैंड कराना एक जोखिम भरा कार्य था। क्योंकि चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर अभी तक दुनिया का कोई भी देश पहुंच नहीं पाया है और ऐसे में इसरो का यह साहसी कदम है कि उन्होंने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर chandrayaan-2 को लैंड कराने का प्रयास किया। पर किसी कारणवश आखिरी समय में लैंडर से इसरो का संपर्क टूट गया और ऑर्बिटर अभी भी चंद्रमा का चक्कर लगा रहा है तो निराश होने की कोई बात नहीं है।

सोशल मीडिया पर पाकिस्तान के तकनीकी मंत्री का उड़ने लगा मजाक

कहते हैं ना कि जो खुद कुछ नहीं कर पाते वह दूसरों की तरक्की देख कर जलते रहते हैं। ऐसा ही कुछ पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान का हाल है। दरअसल पाकिस्तान के विज्ञान एवं तकनीकी मंत्री फवाद चौधरी ने chandrayaan-2 पर टिप्पणी करते हुए कहा कि “जो काम नहीं आता, पंगा नहीं लेते ना एडिया।” फिर क्या था सोशल मीडिया पर पाकिस्तान का मजाक उड़ने लगा। आप खुद ही सोचिए जिस देश के तकनीकी मंत्री को इंडिया लिखना ना आता हो वह क्या हमें ज्ञान देगा। और पाकिस्तान का हाल इस समय क्या है ये पूरी दुनिया जानती है। खुद का जीवन यापन चीन से उधार लेकर चल रहा है और ये इंडिया को ज्ञान देने चले हैं

भजपा को वोट देने का मतलब पाकिस्तान पर परमाणु बम गिराना है: केशव प्रसाद मौर्य

प्रधानमंत्री पर टिप्पणी करने चले थे और कर दी तारीफ

यह जनाब एक ट्वीट करने के बाद रुके नहीं इन्होंने दूसरा ट्वीट करते हुए लिखा कि प्रधानमंत्री मोदी जी सेटेलाइट कम्युनिकेशन पर ऐसे भाषण दे रहे हैं जैसे कि वह राजनेता की बजाय अंतरिक्ष यात्री हो।” यह तो बहुत खुशी की बात है कि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को सैटलाइट कम्युनिकेशन के बारे में इतना ज्ञान है की उन्हें सुनने वाला हर व्यक्ति यह सोचने पर मजबूर हो जाए कि यह राजनेता है या कोई अंतरिक्ष वैज्ञानिक। हमें गर्व है अपने इसरो के वैज्ञानिकों और प्रधानमंत्री पर। पाकिस्तान की इस तरह की टिप्पणी के बाद पाकिस्तान का सोशल मीडिया पर जमकर मजाक उड़ने लगा, और पूरी दुनिया इसरो के वैज्ञानिकों की प्रशंसा कर रही है।