पी चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट की तरफ से बड़ा झटका

पूर्व वित्त मंत्री व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम की आईएनएक्स मीडिया केस में मुश्किलें और बढ़ गई हैं। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई मामले में सुनवाई करने से मना कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहां के अब चिदंबरम की गिरफ़्तारी हो चुकी है तो इस पर सुनवाई करने के लिए हम सहमत नहीं हैं । आगे कोर्ट ने कहा कि आपकी याचिका प्रभाव हीन हो चुकी है।

कपिल सिब्बल का सुप्रीम कोर्ट से सवाल

पी. चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि “हमें पहले सुना जाता तो पहले ही जमानत हो जाती मुझे सुनवाई करने का अधिकार है हम शाम को ही सुप्रीम कोर्ट आ गए थे।” इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहां की अगले दिन वरिष्ठ जज के पास मेंशन करो। जिस पर कपिल सिब्बल ने कहा हमने अगले दिन वरिष्ठ जज के पास मेंशन किया। जज ने जल्द सुनवाई के लिए अपील CJI के पास रखने को कहा लेकिन मुझे सुना नहीं गया, इसे लिस्ट नहीं किया गया, मुझे सुना जाना चाहिए था, मेरा केस शुक्रवार को लगाया गया। संविधान पीठ ने इस मुद्दे पर फैसला नहीं लिया है सुनवाई का मुझे मौलिक अधिकार है।

आगे कपिल सिब्बल ने कोर्ट से पूछा कि, क्या जीने के अधिकार के तहत हमें सुनवाई का अधिकार है या नहीं? जिस पर कोर्ट ने कहा कि आप इस याचिका को बदल सकते हैं यह याचिका प्रभावी नहीं है। इस पर कपिल सिब्बल ने कहा कि बुधवार को ही इसे लिस्ट करने के आदेश हुए, हमने त्वरित रूप से याचिका दाखिल की लेकिन गुरुवार की रात हमें गिरफ्तार कर लिया गया।

तिहाड़ में 30 मिनट तक ईडी ने की चिदंबरम से पूछताछ

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने पी. चिदंबरम की जमानत याचिका को खारिज कर दिया है जिसके बाद सीबीआई पी चिदंबरम की रिमांड बढ़ाने के लिए अर्जी दे सकती है।

लखनऊ कांग्रेस उम्मीदवार का बड़ा बयान

वहीं लखनऊ लोकसभा के कांग्रेस उम्मीदवार आचार्य प्रमोद कृष्णम का कहना है कि चिदंबरम के खिलाफ सीबीआई और ईडी को पूरा मौका देना चाहिए, ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए। जेल जाने के डर से इतने बड़े नेताओं को रोज-रोज अदालत के सामने गिड़गिड़ाना शोभा नहीं देता।