MVVNL के मज़दूर संगठन ने किया धरना प्रदर्शन, लगाया नारे

  • नियमों के दिरुद्ध किये जा रहे स्थानांतरण के विरोध में कार्यालय के गेट पर मज़दूरों ने किया धरना प्रदर्शन
  • मज़दूर संगठन के संरक्षक आर एस राय ने कहा कि स्थानांतरण की नीति को दरकिनार कर कर्मचारियों के किये गए स्थानांतरण
  • मज़दूरों ने एकत्रित होकर प्रबंधन के खिलाफ लगाए ‘इंकलाब ज़िंदाबाद’ के नारे
  • विद्युत् मज़दूर संगठन यूनियन के मुख्य महामंत्री आलोक सिन्हा का कहना है कि प्रबंधन ने नहीं मानी शासन की नीति और कर रहे हैं अपनी मनमानी

उत्तर प्रदेश में आज मध्यांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (MVVNL) के मज़दूरों ने धरना प्रदर्शन किया और नारे भी लगाए। मज़दूर संगठन ने यह धरना नियमों के विरुद्ध किये जा रहे स्थानांतरण के विरोध में कार्यालय के गेट पर किया। मज़दूर संगठन के संरक्षक आर एस राय ने कहा कि स्थानांतरण की नीति को दरकिनार कर कर्मचारियों के स्थानांतरण किये गए। इसके पश्चात् सभी मज़दूर लामबंद होकर इसका विरोध कर रहे हैं। इसके आगे उन्होंने कहा कि यदि कर्मचारियों के किये गए स्थानांतरण को वापस नहीं लिया जाता है और इसी प्रकार नीतियों को दरकिनार कर के काम किया जाता है तो यह विरोध प्रदर्शन चलता रहेगा और कर्मचारी भूख हड़ताल करेंगे।

असंगठित श्रमिक एससोसिएशन द्वारा कार्यक्रम आयोजित

विद्युत् मज़दूर संगठन यूनियन के मुख्य महामंत्री आलोक सिन्हा का कहना है कि “हमारे प्रबंधन ने एक सोची समझी साज़िश के तहत सब कुछ किया है। उनका कहना है कि पॉलिसी में लिखा है कि पति पत्नी एक ही जगह काम करेंगे चाहे वह एक विभाग में काम कर रहे हो तो उसी में काम करेंगे या एक ज़िले में काम कर रहे हों तो उसी ज़िले में काम करेंगे। लेकिन प्रबंधन ने उसको भी नहीं माना और उनको भी अलग कर दिया। जिसके कारण उनका परिवार अव्यवस्थाओं के दौर से गुज़र रहा है। इन लोगों ने शासन की नीति नहीं मानी और अपनी मनमानी कर रहे हैं”। मज़दूरों ने एकत्रित होकर प्रबंधन के खिलाफ ‘इंकलाब ज़िंदाबाद’ के नारे लगाए और कहा कि प्रबंधन की ये मनमानी नहीं चलेगी।