गांधी जयंती: लखनऊ में कांग्रेस की पदयात्रा आज, प्रियंका भी होंगी शामिल

कांग्रेस आज गांधी जयंती के अवसर पर राजधानी में पदयात्रा निकालेगी। इसमें पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी भी शामिल होंगी। जिसमे गांधी जी की 150 जयंती पर प्रियंका गांधी शहीद स्मारक से लेकर जीपीओ तक मौन पैदल मार्च करेगी। प्रियंका का आधिकारिक कार्यक्रम जारी कर दिया गया है, वहीं कांग्रेस को प्रशासन ने भी पदयात्रा की अनुमति दे दी है।

प्रियंका गांधी के स्वागत में कार्यकर्ताओं द्वारा लगयीं गयी होर्डिंग को नगर निगम ने उतारा दिया, दरअसल उनके स्वागत के लिए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एयरपोर्ट से लेकर शाहिद स्मारक तक कि होर्डिंग लगाई थी, जिसे नगर निगम ने उतार दिया।

कांग्रेस ने पहले दो अक्तूबर को पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री चिन्मयानंद के खिलाफ और शाहजहांपुर की पीड़ित छात्रा को न्याय दिलाने के लिए आक्रोश रैली निकालने की घोषणा की थी, पर मंगलवार को उनके नेताओं के स्वर बदले दिखे। मंगलवार को पार्टी की ओर से जारी प्रेस रिलीज में भी आक्रोश रैली के मद्देनज़र कुछ नहीं कहा गया। इससे माना जा रहा है कि कार्यक्रम को गांधी जयंती मनाने तक ही सीमित रखा जाएगा।

स्वामी चिन्मयानंद लखनऊ के एसजीपीजीआई के एनआईसीयू में भर्ती

प्रदेश कांग्रेस दो अक्तूबर शहीद स्मारक से जीपीओ पार्क स्थित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा स्थल तक पैदल यात्रा निकालेगी। इसमें शामिल होने के लिए प्रियंका सुबह 10 बजे नई दिल्ली से अमौसी एयरपोर्ट पहुंचेंगी। प्रियंका गांधी का शहीद स्मारक पे 11:55 पर पहुंचने का समय है। पदयात्रा गांधी प्रतिमा पर 1:30 बजे पहुंचेगी, जहां प्रतिमा पर पुष्पांजलि कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। कांग्रेस विधानमंडल दल की उपनेता आराधना मिश्रा ‘मोना’ ने बताया कि प्रियंका 1:40 बजे प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय पर आएंगी।

कांग्रेस विधायक दल के नेता अजय कुमार लल्लू ने कहा कि गांधी जयंती के अवसर पर कांग्रेस उत्तर प्रदेश विधानसभा के विशेष सत्र का बहिष्कार करेगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश की कानून-व्यवस्था बेहद खराब हो गयी है।

भाजपा विशेष सत्र के नाम पर एक ढोंग रच रही है। जिसमें हमारे विधायक शामिल नहीं होंगे। शाहजहांपुर की बेटी के बलात्कार के आरेपी चिन्मयानंद पर बलात्कार का मुकदमा दर्ज नहीं हो किया गया है। प्रदेश की जनता इन ज्वलंत सवालों पर मुख्यमंत्री का जवाब चाहती है।

कांग्रेस पार्टी ने गांधी जयंती पर मौन जुलूस निकालने की अनुमति मांगी थी, जो की दे दी गई है। इसका उल्लंघन पाए जाने पर प्रशासन तत्काल मौके पर उचित निर्णय लेगा।