पूर्व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने किया खेद व्यक्त

उत्तर प्रदेश के नए प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के पहली बार पार्टी कार्यालय लखनऊ पहुचने पर राजबब्बर स्वागत कार्यक्रम में शामिल नही हो पाए। जिसके बाद उन्होंने एक पत्र जारी कर पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी प्रियंका वाड्रा और आरधना मिश्र को संबोधित करते हुए पहुंच न पाने के लिए खेद व्यक्त किया है। साथ ही आराधना मिश्र को नेता विधानमंडल दल के लिए बधाई दी है। साथ ही कहा है कि प्रियंका वाड्रा का ये फैसला युवाओ को आगे बढ़ाने के लिए पार्टी हित में होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि नए चेहरों को मौका और पुराने चेहरों के अनुभव को मैं शेयर नहीं कर पाया हूं। साथ ही खेद व्यक्त करते हुए कहा कि शायद मैं उन लोगो की कसौटियों पर खरा नही उतर पाया। उसके लिए उन्होंने सभी से क्षमा भी मांगी है। साथ ही अपनी मजबूरी बयां करते हुए कहा कि पद की सीमाओं का भी ध्यान रखना है।

कांग्रेस है जमीनी पार्टी

राजबब्बर ने आगे कहा कि कांग्रेस सशक्त पार्टी है। और इसकी उत्तर प्रदेश के गांव-गांव में जड़े है, लोगों का विश्वास डगमगाया है पर अब चुनौती यह है कि उस विश्वास को कैसे वापस लाया जाए उन्होंने कहा कि मानवता से बढ़कर कोई विचारधारा नही होती है ,और इसके अनुपालन के लिए पार्टी ने मुझे हमेशा मौका और मंच दोनों ही दिया है।

कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता बनीं मोना, पूरे कांग्रेस में खुशी की लहर

नए प्रदेश अध्यक्ष और नेता विधान मंडल को दी सलाह

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और वर्तमान राज्य सांसद राजबब्बर ने आगे नई टीम को बधाई भी दी है साथ ही कहा है की जो जिम्मेदारी डाली गई है वो उसका अनुपालन करे साथ ही जो अपेक्षा उनसे की गई है वो उस पर काम कर पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष को सफलता उनकी झोली में डाले।