पूर्व मुख़्यमंत्री अखिलेश यादव के रामपुर दौरे को लेकर डीएम रामपुर ने शासन को लिखा पत्र

सूत्रों अनुसार,10 सितंबर को समाजवादी पार्टी रामपुर में बड़ा प्रदर्शन कर सकती है। इस प्रदर्शन में अखिलेश यादव भी शामिल हो सकते हैं। बता दें कि गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी (सपा) के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने आजम खान के समर्थन में प्रेस कन्फ्रेंस करके पार्टी कार्यकर्ताओं से संघर्ष करने का आह्वान किया था। मुलायम ने सपा कार्यकर्ताओं और नेताओं से आजम खां के समर्थन में खड़े होने को कहा था। उन्होंने कहा था कि पार्टी आजम खां के मामले में चुप नहीं बैठेगी। जरूरत पड़ी तो मैं भी आगे आऊंगा। आजम खान की बेइज्जती का कार्यकर्ता विरोध करें।

एक ओर कांग्रेस के नेताओं ने अखिलेश यादव के कार्यक्रम का विरोध करते हुए डीएम को ज्ञापन दिया है तो दूसरी ओर प्रशासन ने भी शासन को रिपोर्ट भेजकर मोहर्रम होने के कारण अखिलेश यादव का कार्यक्रम किसी और दिन रखने को कहा है। अखिलेश यादव ने आजम खां के साथ हो रहे अन्याय, अपमान एवं उत्पीड़न की घोर निंदा की है। साथ ही रामपुर में दो दिन के कार्यक्रम का ऐलान किया है। रामपुर से पहले अखिलेश बरेली में दिवंगत पूर्व विधायक सियाराम सागर के आवास पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि देंगे एवं परिवारीजनों से मिलकर संवेदना व्यक्त करेंगे।

अखिलेश के साथ काफी बड़ी संख्या में सपा कार्यकर्ताओं के रामपुर पहुंचने की उम्मीद है. इसी के मद्देनजर रामपुर के जिलाधिकारी ने उत्तर प्रदेश सरकार को एक पत्र लिखा है. पत्र में मांग की गई है कि रामपुर में अखिलेश यादव के दौरे पर रोक लगाई जाए। सूत्रों के मुताबिक रामपुर के डीएम ने भी मोहर्रम के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री की सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम न कर पाने की बात कहते हुए इस दौरे की तारीख आगे बढ़ाने की मांग शासन से की है।

वहीं, एडीजी बरेली जोन अविनाश चंद्र ने कहा कि सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का यह निजी कार्यक्रम बताया गया है। अभी तक उनका दौरा रोकने का कोई निर्देश नहीं मिला है। हालांकि धारा 144 लागू होने के कारण उन्हें अपने दौरे में खुद ही नियमों के पालन के लिए सावधानी बरतनी चाहिए। पुलिस प्रशासन कानून-व्यवस्था बनाए रखने को प्रतिबद्ध है। रामपुर के जिलाधिकारी ने 10 तारीख को मुहर्रम के जुलूस के चलते सुरक्षा व्यवस्था को मुद्दा बताया है। उनका कहना है कि मोहर्रम के जुलूस के चलते अखिलेश यादव को सुरक्षा देने और कार्यक्रमों की व्यवस्था करने में दिक्कत होगी।

CM योगी और अखिलेश यादव ने प्रदेशवासियों को दी रामनवमी की शुभकामनाएं

अखिलेश यादव द्वारा 10 सितंबर के उनके रामपुर दौरे के कार्यक्रम को लेकर भी जानकारी न देने पर भी जिला प्रशासन को आपत्ति है। प्रशासन अखिलेश यादव से भी संपर्क कर उनके प्रोग्राम की पूरी जानकारी बताने को कहेगा। प्रशासन ने शासन को भेजी रिपोर्ट में पूर्व मुख्यमंत्री की मोहर्रम के दिन सुरक्षा को लेकर अपना पक्ष रखा है। डीएम आन्जनेय कुमार सिंह का कहना है कि मोहर्रम के कारण फोर्स मोहर्रम में व्यस्त होगी। इसी कारण से रिपोर्ट शासन को भेजी गई है। संभव है कि कार्यक्रम स्थगित हो जाए।

लोकसभा चुनाव के दौरान सांसद आजम खां और पुलिस-प्रशासन के बीच शुरू हुई तल्खी लगातार बढ़ती ही गई। एक के बाद एक अलग अलग मामलों में 80 से अधिक मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। सपा लगातार आजम खां के साथ खड़ी है। हाल में ही पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह ने भी आजम की हिमायत की थी। इसके बाद अखिलेश यादव का दो दिन के लिए रामपुर आना काफी अहम माना जा रहा है। हालांकि प्रशासन के रुख से उनके कार्यक्रम पर संशय के बादल हैं।