सीएम योगी की सुरक्षा और बढ़ाई गई

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा घेरे को और मजबूत करने की तैयारियां शुरू हो गई है। कल मंगलवार को अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी की अध्यक्षता में इस मुद्दे पर बैठक हुई। जिसमें अपर पुलिस महानिदेशक सुरक्षा की ओर से एसपीजी यानी (स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप) का गठन को लेकर भेजे गए प्रस्ताव पर चर्चा की गई, जिसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा में एसजीपी कमांडो की तैनाती करने को लेकर वार्ता हुई।

मुख्यमंत्री कार्यालय को पहले ही किया जा चुका है सुरक्षित

आपको बता दें कि इससे पहले भी उत्तर प्रदेश पुलिस की सुरक्षा शाखा, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा घेरे को और मजबूत करने के लिए सुरक्षा में बड़े बदलाव कर चुकी है जिसके तहत मुख्यमंत्री कार्यालय के सभी खिड़की दरवाजों को बुलेट प्रूफ व ग्रेनाइट हमले से बचाने के लिए कार्यालय के परिसर में नेट को लगाया गया था। और अब सीएम की सुरक्षा को और पुख्ता करते हुए एसजीपी कमांडो को तैनात करने की तैयारी हो रही है।

गांधी परिवार की सुरक्षा में बदलाव, अब विदेश में भी एसपीजी साथ

क्या है एसपीजी

एसपीजी सुरक्षा देश में दिया जाने वाला सर्वोच्च सुरक्षा कवच है। यह सुरक्षा खास तौर पर देश के प्रधानमंत्री और पूर्व प्रधानमंत्री को प्रदान की जाती है। सुरक्षा कवच सीएसके वीवीआइपी व्यक्तियों की सुरक्षा के लिए साल 1985 में एसपीजी का गठन किया गया था जो हर तरह के खतरे से निपटने के लिए हर समय तैयार रहती है व एसपीजी कमांडो अपनी जान पर खेलकर वीवीआइपी व्यक्ति की जान बचाते हैं व ये हर तरह की परिस्थिति से निपटने के लिए पूर्ण रूप से सक्षम है।

इसी सर्वोच्च सुरक्षा बल को अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सुरक्षा के लिए तैनात किया जाएगा। जिससे सीएम का सुरक्षा कवच और अधिक मजबूत हो जाएगा और इस रक्षा कवच में कोई भी व्यक्ति सेंध नहीं लगा सकता है।