किसी भी प्रकार के जातिवादी विचारों का न हो प्रसारण : एनबीएसए

  • मस्जिद को गिराने वाली किसी भी प्रकार की फुटेज का किया जाए इस्तेमाल
  • कोर्ट की कार्यवाही को लेकर कोई भी भ्रामक खबर चलाई जाये 
  • टीवी पर दिखाया जाए किसी भी तरह के सेलिब्रेशन का फुटेज

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को सुनवाई का अंतिम दिन है। ऐसे में टीवी न्यूज मीडिया ब्रॉडकास्टर्स के संगठन ‘न्यूज ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड्स ऑथरिटी’ (NBSA) ने सभी न्यूज चैनलों के लिए एक सलाह जारी की है। न्यूज ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड्स ऑथरिटी ने कहा है कि कोर्ट की कार्यवाही को लेकर किसी भी तरह की भ्रामिक खबर को न दिखाया जाए।

रंजन गोगोई ने अयोध्या फैसले के कारण विदेश यात्रा रद्द की

एनबीएसए का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई ख़बरें दिखाते समय सुनवाई की खबर दिखाते समय तथ्यों पर विशेष ध्यान दिया जाए और मस्जिद को गिराने वाली किसी भी प्रकार की फुटेज का इस्तेमाल न किया जाए। साथ ही एनबीएसए ने न्यूज़ चैनलों को हिदायत दी कि टीवी पर किसी भी तरह के सेलिब्रेशन का फुटेज न दिखाया जाए और साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाए कि दिखाए जाने वाले डिबेट शो में किसी भी प्रकार के जातिवादी विचारों का प्रसारण न हो।