धोनी नहीं बल्कि इस दिग्गज खिलाड़ी ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से लिया संन्यास

team india with irfan
Google

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर इरफान पठान ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने की घोषणा कर दी है। इरफ़ान पठान ने दिसंबर 2003 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड में अपना डेब्यू किया था । इरफ़ान ने अपना आखिरी मैच अक्टूबर 2012 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला था जो एक टी-20 मैच था।

पठान के क्रिकेट जीवन में एक दौर ऐसा था जब पठान ने अपनी स्विंग गेंदबाजी से बल्लेबाजों के मन में खौफ पैदा कर रखा था। पाकिस्तान के खिलाफ 2006 में कराची टेस्ट मैच में उन्होंने पहले ही ओवर में हैट्रिक लेकर इतिहास रच दिया था। ऐसा करने वाले वे इंडिया के पहले फ़ास्ट बॉलर थे जिसने टेस्ट मैच में हैट्रिक ली हो।

IND vs SL: पहले टी20 मैच कल, मैच होने से पहले ही लगी इन चीज़ों पर रोक

भारतीय क्रिकेटर इरफान पठान का जन्म 27 अक्तूबर 1984 को गुजरात के बड़ोदरा में हुआ था। उनके पिता एक मस्जिद में मुअज़्ज़िन थे। उनका बचपन मुफलिसी में बीता। गरीबी का आलम ये था कि कई वर्षों तक इरफ़ान ने सेकंड हैंड क्रिकेट उपकरणों से ही काम चलाया।

इरफान पठान ने कुल 29 टेस्ट मैच खेले है जिसमें में उन्होंने 100 विकेट लिए है और एक पारी में उनका बेस्ट प्रदर्शन 59 रन देकर 7 विकेट रहा और 31।57 की औसत से 1105 रन भी बनाए। जबकि 120 वनडे मैचों में 173 विकेट लिए और उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 27 रन देकर 5 विकेट रहा और उन्होंने 23।39 की औसत से 1544 रन भी बनाए। इसके अलावा उन्होंने 24 टी-20 इंटरनेशनल मैचों में 28 विकेट लिए।

2007 टी-20 वर्ल्ड कप में इरफ़ान ने फाइनल मैच में 16 रन देकर 3 विकेट झटके थे जिसके लिए उन्हें मैन-ऑफ़-द-मैच दिया गया था।