दिल्ली में साँस लेना हुआ मुश्किल,वायु गुणवत्ता सबसे ख़राब दर्ज की गयी

देश की राजधानी दिल्ली में एक बार फिर लोगों को साँस लेना मुश्किल हो गया है। आज शुक्रवार को लोग जब उठे तो उनको अपने आस-पास घनी धुंध दिखी। बता दें दिल्ली में इस साल की सबसे ज्यादा प्रदूषित हवा आज दर्ज की गयी है।
इस प्रदूषित हवा के कारण लोगों की आँखों और गले में जलन होने लगी। किसानों के द्वारा जलाई गयी पराली और बढ़ती वाहनों की संख्या व फैक्ट्रियों से निकलने वाले धुंए से दिल्ली की हवा की गुणवत्ता गिरती जा रही है। सरकार द्वारा प्रदूषण को रोकने के लिए उठाये गए कदम असफल साबित हुए है।

2 दिन तक ऐसा ही रहा तो बंद होंगे कई काम

केंद्रीय पर्यावरण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों ने बताया की दिल्ली की हवा अगर 2 दिनों तक इसी तरह प्रदूषित रही तो इसको कम करने के लिए दिल्ली में ट्रकों की एंट्री बंद कर दी जाएगी और निर्माण कार्य को भी रुकवा दिया जायेगा। गुरुवार की रात को वायु की गुणवत्ता 410 अंक दर्ज की गयी थी और सुबह यह अकड़ा बढ़कर 459 अंक तक पहुंच गया, जोकि दिल्ली के लिए बिलकुल अच्छा नहीं है।

दिल्ली में प्रदूषण लगातार बढ़ते रहने के कारण लोगो को घरों से मास्क लगा कर निकलना पड़ रहा है। पिछले साल के मुकाबले इस साल दिल्ली की हवा ज्यादा प्रदूषित दर्ज की गयी है। जो लोगों के स्वास्थ्य के लिए बिलकुल भी अच्छा नहीं है। अब देखना होगा की सरकार इस प्रदूषण को कम करने के लिए कौन से कदम उठाती है और वो कितने कारगर साबित होते है। दिल्ली में वायु गुणवत्ता मॉनिटर स्टेशन की संख्या 37 है और इन सभी के द्वारा दर्ज किये गए आकड़ों का औसत बताया जाता है।