संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहीं यह प्रमुख बातें

दशहरे के अवसर पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने आरएसएस कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए मोहन भागवत ने प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की और जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने के फैसले का स्वागत किया तथा कहा की मौजूदा सरकार ने कई साहसिक फैसले लिए हैं । इस मौके पर उनके साथ केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी व वीके सिंह मौजूद रहे।

370 हटाने का समर्थन करने वाले लोग अभिनंदन के पात्र हैं

मोहन भागवत ने आरएसएस कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाना एक साहसी कदम है। इसके लिए संघ प्रमुख ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमित शाह सहित धारा 370 हटाने के फैसले का समर्थन करने वाले सभी लोगों को अभिनंदन का पात्र बताया।

तानाशाहीपूर्ण है छात्रसंघ खत्म करना : रामगोविंद चौधरी

वैज्ञानिकों की प्रशंसा की

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने chandrayaan-2 को लेकर वैज्ञानिकों की प्रशंसा की और कहा कि वैज्ञानिकों ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लैंडर को उतारा, भले ही यह पूर्ण रूप से सफल ना हुआ हो पर पहले ही प्रयास में इतना कुछ कर पाना आसान नहीं था। इसके पीछे वैज्ञानिकों का कठिन परिश्रम था। इस मिशन के बाद वैज्ञानिकों का दुनिया में सर्वत्र बढ़ गया है।

आरएसएस का भीड़ हिंसा से संबंध नहीं

मोहन भागवत ने कहा कि देश में कुछ घटनाएं देखने को मिलती हैं। कई बार तो घटना होती भी नहीं है पर उसे बनाने की कोशिश की जाती है और संघ का नाम उस से जोड़ा जाता है। जबकि संघ के लोगों का ऐसी घटनाओं से किसी प्रकार का कोई संबंध नहीं रहता है। भीड़ हिंसा जैसा शब्द भारत का नहीं है क्योंकि भारत में ऐसा कभी होता ही नहीं था। आगे मोहन भागवत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर हमला बोलते हुए कहा कि कुछ लोग संघ के बारे में बिना जानकारी के कुप्रचार करते रहते हैं। इमरान खान भी यह बात सीख गए हैं। आगे संघ प्रमुख ने सामाज में सहयोग बढ़ाने, न्यायालय का सम्मान करने जैसे अहम बातें कहीं।