15 महीने में खुदरा महंगाई दर पहुंची अपने उच्चतम स्तर पर

google

भारत में लगाकर महगाई बढ़ती जा रही है और पिछले 15 महीनों में महंगाई अपनी चरम सीमा पर पहुंच गई है। एक तरफ जहां नई नौकरियों नहीं निकल रही हैं तो दूसरी तरफ महगाई ने भी आम आदमी की कमर तोड़ रखी है। लोगों के पास आज न तो कोई कमाई धमाई है और ना ही नौकरी है, ऐसे में घर का खर्च चला पाना उन लोगों के लिए मुश्किल होता जा रहा है।

केंद्रीय मंत्री रवि शंकर ने मंदी की तुलना फिल्मों से की

देश में खुदरा महंगाई की दर पिछले 15 महीने के अंदर अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच चुकी है। सब्जियों, तेल और दाल के बढ़ते दामों से सभी लोग परेशान हैं। इन सामानों के अलावा दूध और रोजमर्रा के बाकी सामानों के दामों में भी बेहद तेजी आई है। अक्टूबर के महीने में खुदरा महंगाई दर बढ़कर 4.62% हो चुकी है जबकि सितंबर तक यह दर 3.99% थी। खुदरा महंगाई दर पिछले 15 महीनों के मुकाबले में इस माह सबसे अधिक रही।