प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने आज COP-14 सम्मेलन को संबोधित किया

➤ प्रधानमंत्री ने COP-14 सम्मेलन को संबोधित किया।
➤ पीएम ने 196 देशों के प्रतिनिधियों का स्वागत किया।
➤ 2030 तक 2.6 करोड़ हेक्टेयर बंजर जमीन को उपजाऊ बनाने का लक्ष्य।
➤ 2020 तक भारत करेगा COP की अध्यक्षता।

ग्रेटर नोएडा में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने कॉप-14 सम्मेलन को संबोधित किया जिसमें 196 देशों के प्रतिनिधि आए हुए है। आपको बता दें कि इसकी शुरुआत 2 सितंबर को हुई थी। और इसका उद्घाटन केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर जी ने किया था।

क्या है COP-14

COP इसका पूरा नाम कॉन्फ्रेंस ऑफ प्रॉपर्टीज है। इस सम्मेलन का मकसद दुनिया को बढ़ते मरुस्थलीकरण से बचाना है। जैसे जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता में कमी जमीन को बंजर होने से बचाने के उपायों पर चर्चा आदि जैसे अहम विषयों के लिए इस सम्मेलन का आयोजन किया जाता है।

अभी तक चीन ने की है इसकी अध्यक्षता

इस सम्मेलन की अध्यक्षता अभी तक चीन कर रहा था। चीन ने 2017 व 2018 में (COP) कॉन्फ्रेंस ऑफ प्रॉपर्टीज की अध्यक्षता की है। और अब आने वाले 2 वर्षों, यानी 2020 तक इसकी अध्यक्षता का जिम्मा भारत के पास है। यानी आने वाले 2 सालों में इसकी अध्यक्षता अब भारत करेगा।

नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी से मिले पीएम मोदी

पीएम ने अपने संबोधन में कहा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 196 देशों के प्रतिनिधियों का स्वागत किया और दुनिया को मरुस्थलीकरण से बचाने के लिए पीएम ने कई योजनाएं बताई और अपनी बातें दुनिया के सामने रखी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने कहा कि इस समय पूरा विश्व क्लाइमेट चेंज की समस्या से जूझ रहा है। संयुक्त राष्ट्र को जल संरक्षण परियोजना बनानी चाहिए। आगे पीएम ने कहा कि भारत प्रकृति की रक्षा करने में हरदम आगे रहेगा। और जलवायु परिवर्तन से हमारी धरती पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। भारतीय संस्कृति के अनुसार धरती हमारी मां है और हमें उसका ध्यान रखना चाहिए। आपको बता दें कि यह सम्मेलन इस बार भारत में 13 सितंबर तक चलेगा।