अब नहीं रुकना पड़ेगा टोल प्लाजा पर

केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री ने नई दिल्ली में ‘वन नेशन, वन टैग’ अभियान की शुरुआत की। उद्यम मंत्री श्री नितिन गडकरी ने देश भर में एकीकृत इलेक्‍ट्रॉनिक प्रणाली की प्रक्रिया शुरू करने के लिए आज नई दिल्‍ली में ‘एक राष्‍ट्र एक टैग- फास्‍टैग’ पर एक सम्‍मेलन का उद्घाटन किया। इस अवसर पर सड़क परिवहन और राजमार्ग राज्‍य मंत्री जनरल (सेवानिवृत्‍त) वी.के. सिंह और अनेक राज्‍यों के वरिष्‍ठ अधिकारी मौजूद थे।

इससे पहले भी टोल कलेक्शन डिजिटल हो चुका है

नितिन जी ने राज्य सरकारों से अनुरोध किया कि वे यातायात को सुगम, सुरक्षित और सस्ता बनाने के लिए इस अभियान को शीघ्र ही अपने-अपने राज्यों में लागू करें। बता दें की उत्तर प्रदेश पहले से ही आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर टोल कलेक्शन को डिजिटल कर चुका है। आज यूपीडा के सीईओ एवं अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी और एनएचएआई के बीच हुए समझौते के बाद राज्य में बनने वाले एक्सप्रेस-वे जैसे पूर्वांचल, बुन्देलखण्ड और गोरखपुर-आजमगढ़ लिंक-वे पर आरम्भ से ही फास्ट टैग काम करेगा।

आप अपने खाते से पैसा ट्रांसफर कर सकते है

केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री ने बताया कि फास्ट टैग को जीएसटी से भी जोड़ दिया गया है। इस ऐप से बैंक खाते से सीधे पैसा ट्रांसफर किया जा सकता है। बता दें की आज एनएचएआई प्रीपेड वॉलेट की शुरूआत की गई, जिसने ग्राहकों को अपने फास्टैग को अपने बैंक खाते के साथ नहीं जोड़ने का विकल्प प्रदान किया है। फास्टैग ग्राहकों को सिंगल वन-स्टॉप समाधान प्रदान करने के लिए माय फास्टैग मोबाइल ऐप विकसित किया है। यह ऐप बैंक न्यूट्रल फास्टैग को ग्राहक की पसंद के बैंक खाते में जोड़ने में मदद करता है। ऐप की अन्य विशेषताओं में बैंक विशिष्ट फास्टैग का यूपीआई रिचार्ज शामिल है किए गए(80%) से अधिक फास्टैग को इस सुविधा के माध्यम से रिचार्ज किया जा सकता है।

लखनऊ में कैब से सफर करना हुआ सस्ता व आसान

दिल्ली से मुंबई की दूरी होगी कम

नितिन गडकरी ने कहा की राजमार्ग और भवन निर्माण क्षेत्र में प्रगति दोगुनी हो चुकी है। इसलिए देखा जाये तो यह बहुत बड़ी प्रगति है। हर परियोजना हमारे लिए प्राथमिकता है,और हम उसे पूरा करने की पूरी कोशिश करेंगे। नितिन जी ने ये भी कहा की हम 22 ग्रीन एक्सप्रेसवे बना रहे हैं।जिसमे से दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे एक है। इसके जरिए दिल्ली से मुंबई की दूरी 12 घंटे में तय करना संभव हो पाएगा। यह गुड़गांव से शुरू होकर सवाई माधोपुर, अलवर, रतलाम, झाबुआ, बड़ोदरा से होकर मुंबई जाएगी। उन्होंने कहा कि दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे देशभर में तैयार किए जा रहे। ग्रीन एक्सप्रेस हाइवे नेटवर्क का ही एक भाग है।

उन्होंने कहा की जीएसटी ई-वे बिल (ईडब्‍ल्‍यूबी) प्रणाली के लिए ट्रैक और ट्रेस तंत्र में वर्तमान चुनौतियों से निपटने के लिए ऐसा किया गया है। और इससे प्रभवी निगरानी को बढ़ाया जा सकेगा। इसे जोड़ना अखिल भारतीय स्‍तर पर अप्रैल 2020 से अनिवार्य हो जाएगा। इससे जीएसटी ई-वे बिल प्रणाली के लिए ट्रैक और ट्रेस प्रणाली अधिक प्रभावी हो जाएगी और टोल प्‍लाजा पर गड़बडि़यों पर अंकुश लगाया जाएगा। प्रत्‍येक टोल प्‍लाजा पर एसएमएस अलर्ट के जरिए आपूर्तिकर्ता वट्रासपोर्टर अपने वाहनों पर नजर रख सकेंगे।