रक्षामंत्री ने पूजन कर राफेल में भरी उड़ान

राफेल विमान की पहली खेप को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने फ्रांस में स्वीकार किया। दशहरे के अवसर पर शस्त्र पूजन किया जाता है,राजनाथ सिंह ने भी विधिवत पूजा कर राफेल को स्वीकार किया। जिसके बाद रक्षामंत्री ने करीब 30 मिनट तक राफेल में उड़ान भरी। फरवरी 2021 तक, भारत को 18 राफेल विमानों की डिलीवरी और 2022 तक 36 राफेल भारत को फ्रांस देगा।

फ्रांस से भारत तक राफेल पायलेट करेंगे कोड में बात

भले ही रक्षामंत्री ने राफेल की पहली खेप को स्वीकार किया हो पर राफेल भारत अगले साल तक मई में आएंगे और राफेल को भारत लाते समय भारतीय पायलट कोड्स में वार्ता करेंगे। राफेल के लिए भारतीय पायलेट को ट्रेनिंग फ़्रांस में दी गयी है। राफेल को भारत में हरियाणा के अंबाला में तथा पश्चिम बंगाल के हाशिमआरा में तैनात किया जायेगा।

सरकार ने शहीदों के परिवारों को मिलने वाली राशि में की बढ़ोतरी

फ्रांस से भारत आने से पहले अन्य दो देशो में होगी राफेल की लैंडिंग

खबर के अनुसार राफेल पहली बार ग्रीस या इटली में लैंड और दूसरी बार में ओमान या तुर्की में लैंड करेगा। ऐसा राफेल में ईंधन भरने के लिए किया जायेगा। भारत से फ्रांस की दूरी 7364 km है। इतनी अधिक दूरी होने की वजह से राफेल को दो बार ईंधन लेने हेतु लैंड कराना पढ़ेगा और राफेल भारत तक कयी सारे देशों की सीमा से होता हुआ, गुजरात के जामनगर में लैंड करेगा। राफेल को भारत 1000 km/h की तेज़ गति से व 33000 फ़ीट की उचाई तक उड़ान भर कर लाया जायेगा। वैसे इसकी अधिकतम गति 2222 km/h है।