शीर्ष नक्सली नेता कोबार्ड गांधी को हजारीबाग जेल से सूरत ले गयी गुजरात पुलिस, पेशी आज।

कोबर्ड गांधी पर 15 अगस्त, 2005 को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व आंध्र प्रदेश के विधानसभा उपाध्यक्ष नरसी रेड्डी सहित नौ व्यक्तियों की हत्या का आरोप है। गांधी 2009 से जेल में बंद हैं और उन पर देश के विभिन्न राज्यों में 20 मुकदमे चल रहे हैं।इसी सिलसिले में कुख्यात नक्सली नेता कोबाड गांधी को सोमवार को गुजरात के सूरत की कठोर कोर्ट में पेश किया गया। जानकारी के मुताबिक, 2010 में सूरत के कामरेज पुलिस थाने में दर्ज केस के मामले में नक्सली नेता को झारखंड के हजारीबाग जेल से सूरत लाया गया। इससे पहले कोबर्ड गांधी को ट्रांसफर वारंट पर गुजरात पुलिस ने हिरासत में लिया।

गौरतलब है कि कामरेज पुलिस स्टेशन में सीपीआई माओइस्ट संस्था के नेताओं पर एफआईआर दाखिल की गई थी। ओडिशा में पकड़े गए नक्सलिओं ने बयान दिया था कि दक्षिण गुजरात में नक्सलवाद सक्रिय करने के लिए काम चल रहा है। इस बयान के आधार पर दक्षिण गुजरात में एफआईआर दर्ज की गई थी ।

बाबरी विध्वंस मामले में कल्याण सिंह की जमानत हुई मंजूर

लगभग मामलों में उन्हें जमानत मिल गई थी और उन्हें 12 दिसम्बर को आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम जेल से रिहा कर दिया गया था। जेल से रिहाई के बाद कोबार्ड मुम्बई स्तिथ घर जा रहे थे इसी बीच झारखंड के बोकारो पुलिस द्वारा उन्हें एक मामले में गिरफ्तार कर लिया गया था । उसी मामले में सुरक्षा कारणों से नक्सली नेता को हज़ारीबाग़ जेल में रखा गया था , काफी गोपनीय तरीके से उसे सूरत भेजा गया । इस बीच आंध्र प्रदेश सरकार उनकी जमानत के खिलाफ़ सुप्रीम कोर्ट गई थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार की अपील नियमों का हवाला देकर वापस कर दिया था ।