ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की पहल, मूर्ति विसर्जन के लिए बनाये दो तालाब

प्रतीकात्मक तस्वीर

ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण ने दुर्गा पूजा के बाद होने वाले मूर्तिविसर्जन को ध्यान में रखते हुए एक बड़ी पहल की शुरुआत की है। हिंडन और यमुना में विसर्जन के कारण होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण ने दो तालाब खुदवाये हैं। अधिकारियों ने कहा कि यह कदम नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेश पर उठाया गया है। जिससे हिंडन और यमुना में विसर्जन तथा अन्य माध्यमों से होने वाले वाले प्रदूषण को कम किया जा सकेगा।

अधिकारीयों का कहना है कि यहाँ कदम यमुना और हिंडन में होने वाले प्रदुषण को रोकने के लिए उठाया गया है।अधिकारियों के अनुसार, प्राधिकरण ने नोएडा के नॉलेज पार्क 1 में ग्रीन बेल्ट ग्रेटर नोएडा वेस्ट में चेरी काउंटी के सामने ग्रीन बेल्ट में विसर्जन के लिए कृत्रिम तालाब बनाये गए है। जहाँ श्रद्धालु मूर्तिविसर्जन एवं पूजा पाठ कर सकते है।

गोमती नदी में नहीं किया जाएगा मूर्ति विसर्जन : एसडीएम

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने 29 जनवरी, 2019 को एक आदेश जारी किया था जिसमे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में कचरे व अन्य माध्यमों से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए कृत्रिम तालाब और गड्ढे बनाने के निर्देश दिए गए थे। इससे पहले 15 सितंबर 2015 को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल जिप्सम,प्लास्टर ऑफ पेरिस जैसी प्रदूषणकारी सामग्री से बनी मूर्तियों को प्रतिबंधित कर दिया था।