अरविंद केजरीवाल: चार मरीजों पर प्लाज्मा थेरेपी का प्रेक्षण रहा सफल

delhi cm press conference
image source - google

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि केंद्र सरकार से हमें 10 दिनों पहले अनुमति मिली थी कि हम एलएनजेपी अस्पताल के सबसे गंभीर मरीजों पर प्लाज्मा थेरेपी का ट्रायल कर सकते हैं। हमने 4 मरीजों पर प्लाज्मा थेरेपी का ट्रायल करके देखा है और उसके नतीजे उत्साहवर्धक हैं। कोरोना के जो मरीज सही होकर घर जा चुके हैं। उनका प्लाज्मा लेकर संक्रमित मरीजों पर डालें तो वह भी ठीक हो सकते हैं।

Institute of liver and biliary science के डायरेक्टर डॉक्टर एस के सरीन ने कहा की हम 4 रोगियों में सकारात्मक परिणामों से खुश हैं। रक्त और प्लाज्मा दो से तीन अन्य रोगियों के लिए तैयार है। जो हमारे पास एलएनजेपी अस्पताल में है। आज हम उन्हें प्लाज्मा थेरेपी दे सकते हैं। इस समय हमें उन लोगों की आवश्यकता है जो कोविड-19 से ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। हमें उन लोगों के प्लाज्मा की आवश्यकता है।

यूपी: स्वास्थ्य विभाग ने जारी किए आंकड़े, 56 जनपदों में से अब सिर्फ 45…

आगे डॉ एसके सरीन ने कहा कि पहले जब वायरस शरीर में घुसता है और दूसरा पलमोनरी फेज, जिसमें वायरस फेफड़ों पर अटैक करता है। जिससे सांस लेने में समस्या होने लगती है और तीसरा में साइटोंकाइन रिलीज होते हैं। जिसमें शरीर वायरस से लड़ता है और उसको मारता है। यदि तीसरे फेज में कोरोना मरीज हॉस्पिटल आता है तो उस वक्त तक उसका ऑर्गन फेल हो सकता है। जिससे उसकी मौत भी हो सकती हैं। यदि मरीज का फेफड़ा इनफेक्टेड है और सभी अंग काम कर रहे हैं तो उस स्टेज पर प्लाजमा थेरेपी दें तो मरीज ठीक हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

64 − 59 =