उन्नाव रेप केस का खुलासा, कुलदीप सेंगर को न्यायिक हिरासत में भेजा

हमारे भारत देश में यदि आप न्याय का दरवाजा खटखटाते हैं तो भले ही आपको न्याय देर से मिले पर न्याय जरूर मिलता है। ऐसा ही एक केस उन्नाव का आया, उन्नाव के केस में बीजेपी विधायक  कुलदीप सेंगर पर आरोप लगाया गया कि उन्होंने 18 वर्ष से कम उम्र की लड़की के साथ रेप किया | इस केस में पीड़िता लड़की की भाभी शशि सिंह भी शामिल हैं | जो पीड़िता को नौकरी दिलाने के बहाने कुलदीप सेंगर के घर पर ले गई जहां उसके साथ जबरदस्ती हुई तथा लड़की को बहुत डराया और धमकाया गया पर लड़की बहुत ही निडर थी | वह उनके डरावे धमकावे में नहीं आई , घर आकर सबसे पहले उसने अपनी चाची को यह बात बताई फिर पूरे परिवार को यह बात पता चली | पीड़िता  के चाचा की तरफ से  एफ आई आर दर्ज कराया गया,  जिसमें  बीजेपी पार्टी के विधायक कुलदीप सेंगर व उनके भाई मनोज सेंगर भी नामजद हैं |

पीड़िता के परिवार ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी को एक पत्र लिखा पर उसका कोई खास परिणाम ना आने पर पीड़िता की मां योगी से मिलने उनके भवन पर ही पहुंच गई | इसके बाद  कुलदीप सेंगर पर कार्रवाई चालू हो गई। उसे सीतापुर के जेल में भेज दिया गया | कुलदीप सेंगर तथा उनके भाई समेत 10 लोगों ने पीड़िता की हत्या करने की कोशिश की, जिनके खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया गया है | माननीय  मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी जी ने कुलदीप सेंगर के खिलाफ एक जांच बैठाई जिसमें ज्यादा सबूत हासिल ना होने के कारण कोर्ट ने सीबीआई को जांच सौंप दी ,सीबीआई द्वारा यह सिद्ध कर दिया गया कि पीड़िता का आरोप सही था।

मोदी सरकार का कड़ा फैसला, 15 आयकर अफसर किये गए सेवानिवृत्त

रेप मामले में सोमवार को  कुलदीप सेंगर व शशि सिंह को सुप्रीम कोर्ट के तीस हजारी कोर्ट में पेश किया गया | इनके लिए बहुत बड़ी सुरक्षा लगाई गई थी , जिसके कारण मीडिया भी उन तक बहुत मुश्किल से पहुंच पाई |  कुलदीप सेंगर के वकील जोगिंदर तूलिं का कहना है, कि इस केस में मीडिया ट्रायल हो रहा है | उन्हें पहले ही दोषी बना दिया गया है | पुलिस इन्वेस्टिगेशन के लिए कुलदीप सेंगर तथा शशि सिंह को जेल में भेज दिया है। अगली सुनवाई शुक्रवार को होगी|