सीएम योगी के OSD के नाम पर अधिकारियों पर रौब जमाने वाले दो नटवरलाल गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ओएसडी के नाम पर अधिकारियों को फोन करने वाले दो जालसाजों को लखनऊ पुलिस ने दोनों जालसाजो को गौतमपल्ली से गिरफ्तार किया । पुलिस ने बताया की दोनों जालसाज डीएम बांदा के साथ सीडीओ जौनपुर समेत तमाम अफसरों पर दबाव बनाने के लिए ओएसडी के नाम पर फोन करते थे।

यह दोनों जालसाज अफसरों पर ठेका दिलाने से लेकर ट्रांसफर पोस्टिंग का दबाव बनाते थे। इनके पास से छह मोबाइल फोन, पांच सिम कार्ड सहित चलन से बाहर हो चुके 500 व 1000 रुपए के एक लाख 58 हजार रुपया मिला है। इसके साथ सचिवालय प्रवेश पत्र, फर्जी आई कार्ड, समेत तमाम दस्तावेज मिले हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ के एक विशेष कार्याधिकारी (ओएसडी) के नाम पर प्रदेश में अधिकारियों को फोन कर दबाव बनाने के साथ अर्दब में लेने वाले जालसाज दुर्गेश प्रताप सिंह उर्फ रुसू तथा आलोक दुबे को गौतम पल्ली थाने की पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

दोनों जालसाज सुल्तानपुर के निवासी है। दुर्गेश प्रताप सिंह लखनऊ में 4/587 विजयंत खंड तथा आलोक दुबे बी-9/12 विकल्प खंड गोमतीनगर में रह रहे हैं। इनकी गिरफ्तारी का आदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को देना पड़ा। सीएम योगी आदित्यनाथ के आदेश पर दोनों को लखनऊ पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

सलमान खान के बंगले पर क्राइम ब्रांच का छापा , हाथ लगा 29 साल से फरार अपराधी

दोनों जालसाज युवक दुर्गेश व आलोक बहुत से अफसरों को ओएसडी के नाम पर कॉल कर चुके हैं। दोनों मुख्यमंत्री और उनके सचिवों के नाम पर फर्जी पत्र जारी करने का भी काम करते हैं। फर्जी पत्र जारी कर वह लोगों से वसूली भी करते थे। फर्जी पत्र देकर ठगी करने के मामले में गौतमपल्ली पुलिस और क्राइम ब्रांच ने शुक्रवार को दोनों को गिरफ्तार किया है।

सूत्रों के मुताबिक दोनों जालसाज डीएम बांदा सीडीओ जौनपुर समेत तमाम अफसरों को फोन कर चुके है। इसके साथ ही ठेका दिलाने से लेकर ट्रांसफर पोस्टिंग का दोनों जालसाज अफसरों पर दबाव बनाते थे। इन दोनों जालसाज के पास से सचिवालय प्रवेश पत्र, फर्जी आई कार्ड, समेत तमाम दस्तावेज हुए बरामद हुए है।