पुष्पेंद्र यादव का पुलिस ने जबरन कराया अंतिम संस्कार

  • पुष्पेंद्र यादव ने पुलिस टीम को गुलसराएँ में देख कर मोंठ के इंस्पेक्टर पर चला दी गोली
  • पुष्पेंद्र यादव के एनकाउंटर के बाद सपा बसपा ने भी सीबीएआई जांच की किया है मांग

झाँसी में करगुआं गाँव के पुष्पेंद्र यादव को एनकाउंटर में मार दिया गया था। परिवार वालों ने शव लेने से इंकार कर दिया जिसके बाद पुलिस ने सोमवार देर रात को आनन फानन में पुष्पेंद्र यादव का अंतिम संस्कार कर दिया। एनकाउंटर के बाद परिजनों ने झांसी के मोंठ कोतवाल धर्मेंद्र चौहान के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करके जेल भेजने की मांग की थी। पुष्पेंद्र यादव की पत्नी बार बार गुहार लगाकर आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग कर रही है।

पुलिस का कहना है कि रविवार की सुबह पुष्पेंद्र यादव ने पुलिस टीम को गुलसराएँ इलाके में देख कर मोंठ के पुलिस इंस्पेक्टर पर गोली चला दी। जवाबी कार्यवाही में पुष्पेंद्र यादव घायल हो गया। घायल अवस्था में पुलिस उसको अस्पताल लेकर पहुंची जहाँ डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

पुष्पेंद्र यादव के एनकाउंटर के बाद समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने भी सीबीएआई जांच की मांग किया है। सपा ने ट्वीट कर कहा कि “पुष्पेंद्र यादव का ज़बरन अंतिम संस्कार कर भाजपा सरकार ने साबित कर दिया है कि हत्याआरोपियों को बचाने के लिए वो किसी भी हद तक जा सकती है! समाजवादी पार्टी की माँग है कि आरोपी एसओ पर 302 का केस दर्ज किया जाए। उसकी सीडीआर निकलवा हाई कोर्ट के माननीय सिटिंग जज से जाँच कराई जाये”।

कमलेश हत्याकांड के मुख्य आरोपी गिरफ्तार

शिवपाल यादव के बेटे आदित्य यादव पीड़ित परिवार ने मिलने पहुंचे। उन्होंने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस ने पुष्पेंद्र यादव की हत्या किया है और यह हत्या कानून के दायरे को देखकर नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि पुष्पेंद्र पर आज तक कोई भी FIR दर्ज नहीं हुई और ना ही किसी लड़ाई झगडे तक में उसका नाम आया। उन्होंने आगे कहा कि उसके परिवार के पास कोई हथियार तक नहीं है। साथ ही आदित्य यादव ने कहा कि परिवार ने जब शव लेने से इंकार कर दिया तो पुलिस ने परिवार को बिना बताए अंतिम संस्कार कर दिया।

पुष्पेंद्र यादव एनकाउंटर का मामला तूल पकड़ने के बाद धर्मेंद्र चौहान का तबादला कर दिया गया है। चिरगांव के SHO सुनील तिवारी को मोंठ भेजा गया और कटेरा के SHO विनोद मिश्रा को चिरगांव का थाना प्रभारी बनाया गया है।