ऑपरेशन खुशी टीम ने दो गुमशुदा बच्चों को उनके परिजनों से मिलवाया

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज श्रीमान सहायक पुलिस अधीक्षक/क्षेत्र अधिकारी नगर तृतीय श्री अमित कुमार आनंद के निर्देशन पर टीम के सदस्य एसआई कामता प्रसाद हेड कांस्टेबल संजय दुबे कांस्टेबल मुलायम यादव व यशवंत सिंह महिला कांस्टेबल दीपिका सोनी महिला कांस्टेबल कुमारी कविता, ऑपरेशन खुशी के तहत जब 29 सितम्बर को धूमनगंज में स्थित राजरूपपुर बालगृह पहुंचे। 

बालगृह में दो बच्चे मौजूद थे, उनसे मुलाकात करने के बाद दोनों बच्चों से नाम पूछा गया। एक ने अपना नाम सोनू पिता का नाम स्वर्गीय रामाश्रय माता का नाम सरोज पता बिधनू कानपुर नगर उम्र 10वर्ष बताया और फिर दूसरे ने अपना नाम आशीष पिता का नाम राकेश बंजारा पता चकेरी, कानपुर उम्र 10वर्ष बताया। ऑपरेशन खुशी के टीम द्वारा दोनों बच्चों के बताए गए पते से संबंधित थाना प्रभारी चकेरी एवं थाना प्रभारी बिधनू से मोबाइल से संपर्क किया गया तथा दोनों बच्चों का फोटो थाना प्रभारी को भेजा गया।

टीम ने दोनों बच्चों को उनके परिवार से मिलवाया

थाना प्रभारी चकेरी व बिधनू से पता चला कि दोनों बच्चों के गायब होने के संबंध में रिपोर्ट दर्ज कराई है। थाना प्रभारी ने दोनों बच्चों के परिवार से बात कराई। ऑपरेशन खुशी टीम के सदस्य ने आशीष के पिता राकेश बंजारा व सोनू के माता सरोज को 8 ऑक्टूबर को प्रयागराज में आए दोनों बच्चों के परिवार को लेकर राजरूपपुर ले गए और बच्चों से मिलवाया। दोनों बच्चे अपने माता-पिता से मिलकर रोने लगे, दोनों बच्चों को उनके परिवार को सौंपा गया।

डाँट से आहत होकर भागे बच्चे को जीआरपी रायबरेली द्वारा बरामद कर परिजनों को किया गया सुपुर्द

ऐसे बच्चों को बहलाया-फुसलाया  

सोनू की माता ने बताया कि थाना बिधनू में 5 अक्टूबर को अपराध संख्या 994/19 धारा 363 भा द वि मुकदमा लिखवाया गया है तथा आशीष के पिता ने बताया कि थाना चकेरी में 7 ऑक्टूबर को अपराध संख्या 566/19 धारा 363 मुकदमा लिखवाया था। सोनू एवं आशीष ने बताया कि 25 सितम्बर को दोपहर 2:00 बजे घर के सामने खेल रहे थे वहां एक शिवम नाम का लड़का आया। उन दोनों बच्चों को वह बहला-फुसलाकर स्टेशन ले आया। उसके बाद ट्रेन में बैठा कर प्रयागराज ले गया। शिवम ने उनसे कहा कि तुम दोनों को काम दिलवाऊंगा और जबरदस्ती ले लाया। दोनों बच्चे ट्रेन में खूब रोने लगे, तो वह डर के छोड़ कर भाग गया।

दोनों बच्चों ने बताया कि शिवम् पहले हमारे घर के पास रहता था। शिवम् ने ऐसे कारनामों को पहले भी अंजाम दे चूका है। उसके बाद हम लोगों को चाइल्ड लाइन वाले ले गए तब पुलिस आई और मेरे घर सूचना देकर हमारे परिवार से मिलवाया गया। दोनों बच्चे पुलिस की इस कार्रवाई से बहुत खुश थे। बच्चों को उनके परिवारों से मिलवाया गया। थाना प्रभारी चकेरी एवं बिधनू को बताया गया कि दोनों बच्चे बता रहे थे कि शिवम् नाम का लड़का हम लोग को बहला-फुसलाकर लाया था इस संबंध में कार्रवाई करने हेतु दोनों थाना प्रभारी को अग्रिम विधिक कार्यवाही हेतु अवगत करा दिया गया है। थाना प्रभारीयों ने कहा कि हम बच्चों को ले जाने वाले व्यक्ति का जल्द से जल्द पता लगाकर उसपे कड़ी कार्यवाही करेंगे।