एचसीएल के सॉफ्टवेयर इंजीनियर की हत्या के मामले में लखनऊ पुलिस को मिली सफलता।

पिछले महीने 23 जुलाई को एचसीएल के एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर जिसका नाम श्री शरद निगम था उसकी देर रात करीब 10:30 बजे उसके घर से 200 मीटर की दूरी पर दो अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। जिसकी गुत्थी सुलझाने में लखनऊ पुलिस को बड़ी सफलता मिली है।

लव ट्रायंगल का था मामला

खबर के अनुसार सॉफ्टवेयर इंजीनियर की हत्या अवैध संबंधों के चलते की गई थी, बताया जा रहा है कि सॉफ्टवेयर इंजीनियर का एक लड़की के साथ अवैध संबंध था। इंजीनियर व लड़की लिविंग रिलेशनशिप में कई दिनों से रह रहे थे। खबर यह भी है कि आरोपी के साथ लड़की पहले रिलेशनशिप में थी और संबंध बना चुकी थी, पुलिस ने बताया कि आरोपी लड़की के पड़ोस में ही रहते थे।

वापसी के दौरान हुई थी हत्या

एचसीएल सॉफ्टवेयर इंजीनियर लड़की के घर से वापसी कर रहा था तभी दोनों आरोपियों ने वारदात को अंजाम दिया ।पकड़े गए आरोपियों के नाम सुरेंद्र जायसवाल उर्फ साईं भैया है जिसकी उम्र लगभग 50 वर्ष के आसपास है और दूसरा आरोपी सूरज कुमार चौहान जिसकी उम्र 19 वर्ष है। पुलिस ने आरोपियों के पास से अवैध असलहा और घटना में इस्तेमाल की हुई मोटरसाइकिल भी बरामद कर ली है यह पूरी घटना ठाकुरगंज में 23 जुलाई की शाम को हुई थी।

गूगल मैप से जुटाया था हत्यारों ने कमलेश तिवारी का पता

कैसे सुलझायी पुलिस ने हत्या की गुत्थी

लखनऊ पुलिस ने इस गुत्थी को सुलझाने के लिए कई टीमों का गठन किया था, जिनमें से एक टीम ऑफिस में जाकर मृतक के साथियो से पूछताछ कर रही थी तथा एक टीम सोशल मीडिया पर उसके दोस्तों की जांच तथा एक टीम घर से ऑफिस के मार्ग में छानबीन के लिए लगाई गई थी।

सोशल मीडिया से पुलिस को पता चला कि मृतक श्री शरद निगम की एक लड़की के साथ दोस्ती थी, सीसीटीवी जांच में यह पता चला कि दो बाइक सवार इंजीनियर का पीछा घटना वाले दिन कर रहे थे।

श्रीमान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री कलानिधि नैथानी, श्रीमान पुलिस अधीक्षक नगर पश्चिम श्री विकास चंद्र त्रिपाठी के एवं श्रीमान क्षेत्राधिकारी चौक श्री दुर्गा प्रसाद त्रिपाठी के नेतृत्व में थाना ठाकुरगंज की पुलिस टीम एवं सुपर 30 को निर्देशित किया गया था।