बेखौफ अपराधियो ने रायबरेली के नेवादा प्रधान पर किया जानलेवा हमला

  • प्रधान को चुनावी रंजिश में किया लहूलुहान, रायबरेली जिला अस्पताल में भर्ती।
  • थाना ऊंचाहार की घटना, अपराधी अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर।
  • भाजपा एमलसी दिनेश प्रताप सिंह पहुचे जिला अस्पताल और जल्द अपराधियो की गिरफ्तारी की कही बात।
  • सपा विधायक मनोज पांडेय ने डॉक्टरों को सही उपचार के दिये निर्देश और दिलाया प्राइवेट रूम।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जहाँ एक तरफ यूपी के अधिकारियों को कानून व्यवस्था का पाठ पढ़ाया है और अपराध और अपराधियों पर अंकुश लगाने की बात कही है और इसकी मॉनिटरिंग खुद प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी कर रहे है, ऐसे में पुरानी चुनावी रंजिश के तहत रायबरेली के ऊंचाहार थानांतर्गत ग्राम नेवादा के प्रधान हरि नारायण सिंह उर्फ कल्लू सिंह को बीती रात बेखौफ अपराधियो ने अपना शिकार बनाया और मरणासन्न छोड़ कर चले गए। पीड़ित प्रधान के साथ उसका एक बेटा और बेटी भी थी, जो इस घटना से सहमे हुए है। फिलहाल पुलिस ने 307 का मुकदमा दर्ज कर पीड़ित को जिला अस्पताल में भेज दिया जहाँ उनका इलाज चल रहा है।

प्रधान की माने तो 8 अक्टूबर की रात 9 बजे वो रायबरेली के एनटीपीसी से बच्चों को रावण दहन दिखा कर लौट रहे थे और उनके सहयोगी मुकुल सिंह उनका चार पहिया वाहन चला रहे थे, इतने में नोहर का पुरवा गांव के पास दो पहिया वाहन से पीछा कर रहे थे और प्रधान की गाड़ी के आगे अपनी दोपहिया गाड़ी लगा दी। जिस पर मुकुल सिंह ने गाड़ी हटाने को कहा तो उन लोगो ने गाड़ी हटाने से इनकार किया और कहा कि हमने गाड़ी लगाई है आगे तुम हटाओ। मुकुल ने कहा कि आप हटा लो हमारी चार पहिया है। प्रधान के अनुसार, इसके बाद प्रदीप सिंह,दिलीप सिंह,आदित्य सिंह रामू व उनके कई साथियो ने प्रधान को गाड़ी से घसीट कर खूब मारा पीटा और तब तक मारा जब तक वो बेहोश नही हो गए। मुकुल सिंह वहाँ मदद की गुहार लगाने गांव गया। गांव के लोगो को आता देख अपराधी वहाँ से निकल पड़े।

बच्चो के सामने पिता को मरणासन्न अवस्था मे छोड़ गए अपराधी

आपको बता दे कि प्रधान हरिनारायण सिंह उर्फ कल्लू सिंह को जब अपराधी बुरी तरह मार पीट रहे थे तो उनके बेटे और बेटी दोनों साथ मे थे और घटना को देखकर वो सहम गए है और गाड़ी अंदर से लॉक कर ली। मौके पर पुलिस आने के बाद बच्चे गाड़ी से बाहर निकले।

महिला पर चाक़ू से हमला करने वाला बदमाश गिरफ्तार

पुलिस ने मुकदमा लिख जांच की बात कही

मुकुल सिंह ने जब 100 नंबर मिलाया तो पुलिस आई और स्थानीय थाना ऊंचाहार ले गए जहाँ प्रभारी निरीक्षक संजय दुबे ने पीड़ित प्रधान की तहरीर लेकर उनका इलाज कराने स्थानीय अस्पताल भेजा। जहाँ से उन्हें रायबरेली जिला अस्पताल भेज दिया गया है और मामले की जांच की जा रही है। फिलहाल संजय दुबे की माने तो मुकदमा 323, 504,506,147,148,307 आईपीसी की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर विवेचना कर अपराधियो की गिरफ्तारी की बात कही है ।

क्या कहते है क्षेत्राधिकारी आर सी शाही और एडिशनल एसपी

घटना क्रम के बारे में हमारे संवादाता ने क्षेत्राधिकारी डलमऊ आर सी शाही से जब पूछा तो उन्होंने बताया कि घटना के संबंध में मुकदमा दर्ज किया जा चुका है और विवेचना जारी है, जल्द होगी कार्यवाही। साथ ही एडिशनल एसपी शशि शेखर सिंह की माने तो अपराधियो के खिलाफ पुलिस ने 307 का मुकदमा दर्ज किया गया है। प्रधान जी ने जो तहरीर दी है उसपे मुकदमा दर्ज किया गया है विवेचना जारी है।

मुकदमा तुरंत लिखा गया है, गिरफ्तारी भी जल्द होगी – दिनेश प्रताप सिंह

भाजपा एमलसी दिनेश प्रताप सिंह पीड़ित प्रधान हरिनारायण सिंह को देखने पहुचे और प्रधान का सही से उपचार करने के लिए सीएमएस और डॉक्टरों को निर्देश दिए, साथ ही उन्होंने मौके पर एमआरआई भी कराई। आवाज ए उत्तर प्रदेश संवाददाता से बात के दौरान उन्होंने कहा कि योगी आदित्यनाथ सरकार पर उन्हें पूरा विश्वास है, मुकदमा दर्ज किया गया है, शाम तक हो जाएगी कार्यवाही। उन्होंने पुलिस और उनकी कार्यवाही पर अपना भरोसा  जताते हुए कहा है कि गिरफ्तारी सुनिश्चित है, साथ ही अगर प्रधान का इलाज यहां नही हुआ तो ले जाएंगे लखनऊ बीडीसी और निर्वाचित प्रधान के प्रति हमारी है जिम्मेदारी।

प्रधान को देखने पहुंचे सपा विधायक मनोज पांडेय

रायबरेली से मौजूदा सपा विधायक व अखिलेश सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे मनोज पाण्डेय भी जिला अस्पताल में हरिनारायण सिंह को देखने पहुचे। उन्होंने आवाज ए उत्तर प्रदेश के संवाददाता से बताया कि डॉक्टर अल्ताफ जो इनको देख रहे है उनको आवश्यक निर्देश दिए गए है और खुद उन्होंने खड़े होकर सिटी स्कैन कराया है। जल्द ही रिपोर्ट आएगी अपराधियो की गिरफ्तारी हो इस पर भी उन्होंने अधिकारियों से बात कर रखी है।

पूरे मामले में फिलहाल खबर लिखे जाने तक जहाँ एक तरफ पुलिस के हाथ खाली है, वही दूसरी तरफ अपराधी बेखौफ घूम रहे है। ऐसे में देखना ये होगा कि आख़िर अपराधियो की गिरफ्तारी कब होती है और पीड़ित परिवार की सुरक्षा के लिए स्थानीय प्रशासन किस तरह के इंतजाम करती है, क्योंकि जब जो दबंग, बच्चो के सामने पिता को बर्बरतापूर्वक मारकर छोड़ सकते है वो कुछ भी कर सकते है।