आश्वासन मिलने पर पानी की टंकी से उतरा वकील परिवार

लखनऊ में स्थित काकोरी थाना क्षेत्र मे जॉगर्स पार्क के पास की यह घटना काफी चौका देने वाली है। यह घटना पानी की टंकी पर चढ़े सात लोगो की है। जो 24 घंटे से टंकी पर चढ़े हुए थे पर DM के आश्वासन पर वहां से नीचे उतर गए। इस परिवार ने यह कदम सरकार से अपने भाई के लिए न्याय पाने के कारण किया।

क्या वजह है इस धरने की

शुक्रवार की सुबह से हरदोई सुरसा थाना क्षेत्र के निवासी वकील विनय प्रताप सिंह पत्नी राधा व परिवार के सात सदस्यों के साथ जॉगर्स पार्क के पीछे पानी की टंकी पर चढ़कर 11 बजे से पूरी रात टंकी पर छाडे रहे और नीचे नहीं उतरे। पूरी रात भर हरदोई के एसपी सहित कई अधिकारी मौके वारदात पर कई थानों की पुलिस सहित मौजूद थे।

विनय का आरोप है कि गांव के लल्लन सिंह, वीरपाल सिंह उर्फ भोला, संजय सिंह, कृष्णपाल सिंह उर्फ केपी, अमर सिंह और भरत सिंह ने उनके पैतृक जमीन पर कब्जा कर लिया है। उनके दवारा इसका विरोध करने पर जनवरी 2016 में उनके भाई विवेक प्रताप सिंह को अगवा कर लिया। केस दर्ज होने के बाद भी पुलिस ने अब तक कोई कदम नहीं उठाया है। इस दौरान आरोपितों द्वारा धमकी मिलने के चलते कारण उन्हें गांव छोड़ना पड़ा।

पानी की टंकी पर चढ़ परिवार दे रहा आत्मदाह की धमकी

इसी वजह से उन्होंने नारेबाजी करते हुए धरना किया। इन सबके बाद भी पुलिस ने टंकी पर चढ़ने का प्रयास किया लेकिन अधिवक्ता ने साथ लाई पेट्रोल की बोतल शरीर पर उड़ेलकर ली और आग लगाने की धमकी भी दी।

पुलिस से सिर्फ मोबाइल का पावर बैंक लिया, खाना-पानी फेंका

विनय के मोबाइल फोन की बैटरी खत्म की वजह से फोन स्विच ऑफ हो गया। जिसके बाद पुलिस ने पावर बैंक और पानी की बोतलें ऊपर भिजवाईं। मगर विनय ने पावर बैंक तो ले लिया पर पानी की बोतलें को फेंक दिया।

अपने साथ खाने-पीने का सामान लेकर विनय टंकी पर चढ़ा है। उसके साथ उसकी पत्नी राधा सिंह, भाई अजय प्रताप सिंह, अजय की पत्नी माला व नौ साल का बेटा शिव सिंह, बहन राजवती व उसकी बेटी पूनम भी हैं। ये सभी एक साथ हरदोई के डीएम-एसपी के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं।