भ्रष्टाचार की शिकायतें अब जुड़ेगी डीजीपी कंट्रोल रूम से

लखनऊ में गुरुवार को डीजीपी की प्रेस कांफ्रेंस हुई जिसमे बहुत से मामलों पर बात हुई। डीजीपी ने बताया की आज अपराधी पुलिस से डरते हैं। उन्होंने पुलिस कर्मियों को निर्देश दिया है कि वह जनता से अच्छा व्यवहार करें। उन्होंने बताया कि भ्रष्टाचार कि सभी शिकायतों को कंट्रोल रूम से जोड़ा जाएगा और डीजीपी मुख्यालय से इनकी शिकायतों की मॉनिटरिंग की जाएगी। साथ ही क्राइम और करप्शन पर भी ध्यान दिया जाएगा। एडीजी क्राइम इसकी निगरानी करेंगे। इस साल भ्रष्टाचार निवारण संगठन ने काफी बढ़िया काम किया है।

समाजवादियों के बीच डीजीपी ओपी सिंह ने किया जीपीओ पर गांधी को माल्यार्पण

डीजीपी का कहना है कि वर्ष 2014 में केवल 14 ट्रैप किये गए थे और 2018 में 80 ट्रैप हुए थे। इस साल अब तक कुल 72 ट्रैप हो चुके हैं जिसमे राजस्व विभाग में 29 और पुलिस के खिलाफ 9 ट्रैप किये गए। डीजीपी ने एंटी करप्शन कमांडर खूब तारीफ की और कहा कि जब से उन्होंने कार्यभार संभाला है तब से लेकर अब तक ट्रैपिंग के अच्छे नतीजे आए हैं। डीजीपी ने कहा कि डायल 100 के द्वारा भी भ्रष्टाचार कि शिकायतें प्राप्त होती हैं। प्रेस कांफ्रेंस में अधिकारियों और कर्मचारियों व उनके आश्रितों का उपचार कराने का अधिकारियों से विचार विमर्श किया गया।