अयोध्या पर फैसले के बाद हो रही AIMPLB की पहली प्रेसवार्ता

google

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के मुमताज पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज में ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) की बैठक शुरू हो चुकी हैं। मुस्लिम पक्षकारों की यह बैठक अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पहली बार की जा रही हैं। हालाँकि यह बैठक पहले नदवा कॉलेज में होनी थी लेकिन अचानक पर्सनल लॉ बोर्ड ने मीटिंग की जगह बदल दिया।

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की इस बैठक में बहुत से पदाधिकारियों ने शिरकत किया। AIMPLB के वकील ज़फरयाब जिलानी और AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी भी बैठक में शामिल होने के लिए पहुंचे जबकि इक़बाल अंसारी और सुन्नी वक्फ बोर्ड ने इस बैठक में शामिल होने से मना कर दिया। भारतीय जनता पार्टी के वक़्फ़ बोर्ड के अध्यक्ष व हज मंत्री मोहसिन रजा ने अयोध्या फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका पर मंथन के लिए AIMPLB की इस बैठक पर उठाए सवाल खड़ा किया है।

अयोध्या मामले में कोर्ट का फैसला होना चाहिए कुबूल: AIMPLB

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर रिवीयू पेटिशन दाखिल करने पर विचार कर सकता है। मुमताज कॉलेज में चल रही मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड की बैठक में ज़फरयाब जिलानी और असदुद्दीन ओवैसी के आलावा मौलाना महमूद मदनी, मौलाना अरशद मदनी, भोपाल से विधायक आरिफ मसूद, उपाध्यक्ष जलालुद्दीन उमरी, मुस्लिम लीग के Et बशीर, मौलानां खालिद रशीद फिरंगी महली, मौलाना वली रहमानी, खालिद सैफुला रहमानी, हाजी महबूब ,मौलाना फजलुर रहमान ,मोहम्मद उमर, हाजी असद तथा हबीबुल्लाह उर्फ बादशाह ने शिरकत किया। इस बैठक में राबे हसन नदवी भी पहुँच गए हैं। राबे हसन नदवी मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के अध्यक्ष हैं और नदवा कॉलेज के कर्ताधर्ता भी है।